शाबर मन्त्र संग्रह भाग-4 : ऋतशील शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तन्त्र मन्त्र | Shabar Mantra Sangrah Part-4 : by Ritusheel Sharma Hindi PDF Book – Tantra Mantra

शाबर मन्त्र संग्रह भाग-4 : ऋतशील शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - तन्त्र मन्त्र | Shabar Mantra Sangrah Part-4 : by Ritusheel Sharma Hindi PDF Book - Tantra Mantra
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name शाबर मन्त्र संग्रह भाग-4 / Shabar Mantra Sangrah Part-4
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 66
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : मन्त्र-साहित्य के विशाल भण्डार में शाबर मन्त्रों का महत्वपूर्ण स्थान है| सध्यः फलदायी होने के कारण इनका गौरव आज भी बना हुआ है| दुःख कि बात है कि शाबर मन्त्रों कि परम्परागत प्राचीन ख्याती आज पूर्णतया उपलब्ध नहीं है| सदियों तक जिन शाबर मन्ह्रोंको श्रद्धालु साधकों ने प्रतिलिपि कर के जीवित रखा था, वही आज मुद्रण कला के व्यापक से व्यापकतर हो जाने पर भी उपेक्षा के कारण दुष्प्राप्प एवं दुर्लभ हो गए………..

Pustak Ka Vivaran : Mantr-Sahitya ke vishal bhandar mein Shabar Mantron ka mahatvapoorna sthan hai. Sadhyah phaladayi hone ke karan inka gaurav aaj bhi bana hua hai. Duhkh ki bat hai ki Shabar Mantron ki paramparagat prachin khyati aaj purnataya upalabdh nahin hai. Sadiyon tak jin Shabar Mantron ko shraddhalu sadhakon ne pratilipi kar ke jeevit rakha tha, vahi aaj mudran kala ke vyapak se vyapakatar ho jane par bhi upeksha ke karan dushprapya evam durlabh ho gae………..

Description about eBook : Shabar Mantra is an important place in the vast reservoir of mantra literature. Progress Because of being fruitful, their pride still remains. Sadly, traditional ancient fame of the Shabar Mantras is not fully available today. For centuries the devotees who had kept alive the copy of the devotees were saved by printing seekers, even today, due to the widespread publicity of printing art, they became irreparable and rare due to neglect…………..

“जीवन को गाड़ी के सामने के कांच से देखें, पीछे देखने के दर्पण में नहीं।” ‐ बर्ड बग्गेट्ट
“Look at life through the windshield, not the rear-view mirror.” ‐ Byrd Baggett

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment