बूढ़ी काकी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Budhi Kaki : Hindi PDF Book – Story (Kahani)

बूढ़ी काकी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Budhi Kaki : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बूढ़ी काकी / Budhi Kaki
Author
Category, , ,
Language
Pages 19
Quality Good
Size 380 KB
Download Status Available

बूढ़ी काकी का संछिप्त विवरण : बुढ़ापा बहुधा बचपन का वतन हुआ करता है। बूढ़ी काकी में जिह्ला-स्वाद के सिवा और कोई चेष्टा शेष न थी और न अपने कष्टों की और आकर्षित करने का, रोने के अतिरिक्त कोई दूसरा सहारा ही । समस्त इन्द्रियाँ, नेत्र, हाथ और पैर जवाब दे चुके थे । पृथ्वी पर पड़ी रहतीं और घरवाले कोई बात उनकी इच्छा के प्रतिकूल करते, भोजन का समय टल जाता या उसका परिमाण पूर्ण न होता अथवा बाजार से कोई वस्तु आती और उन्हें न मिलती, तो वे रोने लगती थीं…….

 

Budhi Kaki PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Budhapa bahudha bachpan ka vatan huya karata hai. Boodhi kaki mein jihva-svad ke siva aur koi cheshta shesh na thee aur na apane kashton ki aur Aakarshit karane ka, rone ke atirikt koi doosara sahara hi. Samast Indriyan, Netra, hath aur pair javab de chuke the . Prthvi par padi rahateen aur gharavale koi bat unaki ichchha ke pratikool karate, bhojan ka samay tal jata ya usaka pariman poorn na hota athava bazar se koi vastu aati aur unhen na milati, to ve rone lagati theen…………
Short Description of Budhi Kaki PDF Book : Old age is often the motherland of childhood. The old aunty had no effort other than tongue-tasting and no other support other than to cry, to attract more of her sufferings. All the senses, eyes, hands and feet had answered. When they were lying on the earth and the family members were doing anything contrary to their wishes, the time of meal would not be postponed or its quantity was not fulfilled or any thing came from the market and they did not get it, then they started crying……
“हर सुबह जब आप जागते हैं तो अपने भगवान को धन्यवाद दें तथा आप अनुभव करते है कि आपने वह कार्य करना है जिसे अवश्य किया जाना चाहिए, चाहे आप इसे पसंद करें या नहीं। इससे चरित्र का निर्माण होता है।” ‐ एमरसन
“Thank God every morning you get up and find you have something to do that must be done, whether you like it or not. That builds character.” ‐ Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment