बुलबुल और गुलाब : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Bulbul Aur Gulab : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameबुलबुल और गुलाब / Bulbul Aur Gulab
Author
Category, , , ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 1168 KB
Download Status Available

बुलबुल और गुलाब का संछिप्त विवरण : कोई लाल गुलाब नहीं मेरे सारे उपवन में !”वह चिललाया और और उसकी सुन्दर आँखों में आंसू उमड़ आए। “आह ,कितनी छोटी-छोटी बातों पर निर्भर होती है ख़ुशी ! मैंने पढ़ा है जो भी बुद्धिमानों ने लिखा है, दर्शन-शास्त्र के सब रहस्य भी मैं जनता हूँ, फिर भी एक लाल गुलाब की कमी मेरा जीना दूभर कर दिया है”……

Bulbul Aur Gulab PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Koi Lal gulaab nahin mere sare upavan mein !vah chillaya aur aur usakee sundar aankhon mein aansoo umad aae. aah ,kitanee chhotee-chhotee baton par nirbhar hotI hai khushee ! Mainne padha hai jo bhee buddhianon ne likha hai, darshan-shastr ke sab rahasy bhee main janata hoon, phir bhee ek laal gulaab kee kami mera jeena doobhar kar diya hai…………
Short Description of Bulbul Aur Gulab PDF Book : No red roses in all my groves! ”He shouted and tears welled up in his beautiful eyes. “Ah, happiness depends on so many small things!” I have read whatever the wise have written, I am also aware of all the mysteries of philosophy, yet the lack of a red rose has made my life difficult. ”………..
“बच्चों को शिक्षित करना तो ज़रूरी है ही, उन्हें अपने आपको शिक्षित करने के लिए छोड़ देना भी उतना ही ज़रूरी है।” ‐ अर्नेस्ट डिमनेट
“Children have to be educated, but they have also to be left to educate themselves.” ‐ Ernest Dimnet

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment