चूहा मर चुका है, चींटी दुखी है : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Chooha Mar Chuka Hai, Cheenti Dukhi Hai : Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Nameचूहा मर चुका है, चींटी दुखी है / Chooha Mar Chuka Hai, Cheenti Dukhi Hai
Author
Category, ,
Language
Pages 31
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

चूहा मर चुका है, चींटी दुखी है का संछिप्त विवरण : फिर उसने कपास के पेड़ में अपने पंख गिरा दिए। “तुम्हारे पंख कहाँ है ? कपास के पेड़ ने पूछा। “चूहा मर गया है और चींटी दुखी है और इसलिए मैंने अपने पंख गिरा दिए। नीलकण्ठ ने कहा। “अगर चूहा मर गया है और चींटी दुखी है और तुम्हारे कोई पंख नहीं है , तो मैं भी सिकुड़ कर छोटा ही जाऊंगा। पेड़ ने कहा और उसने वही किया………

Chooha Mar Chuka Hai, Cheenti Dukhi Hai PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Phir Usane kapas ke ped mein apane pankh gira diye. Tumhare pankh kahan hai ? Kapas ke ped ne poochha. Chooha mar gaya hai aur cheentee dukhi hai aur isaliye mainne apane pankh gira diye. Neelakanth ne kaha. Agar chooha mar gaya hai aur cheentee dukhee hai aur tumhare koi pankh nahin hai , to main bhee sikud kar chhota hee jaunga. Ped ne kaha aur usane vahi kiya………..
Short Description of Chooha Mar Chuka Hai, Cheenti Dukhi Hai PDF Book : Then he dropped his wings in the cotton tree. “Where are your wings?” The cotton tree asked. “The rat is dead and the ant is sad and that’s why I dropped my wings.” Neelkanth said. “If the rat is dead and the ant is unhappy and you have no wings, I will shrink and shrink.” The tree said and he did………..
“यदि आपने अपनी मनोवृतियों पर विजय प्राप्त नहीं की, तो मनोवृत्तियां आप पर विजय प्राप्त कर लेंगी।” ‐ नेपोलियन हिल
“If you do not conquer self, you will be conquered by self.” ‐ Napoleon Hill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment