दर्द के दस्तावेज : सांवर दईया द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Dard Ke Dastavej : by Sanwar Daiya Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दर्द के दस्तावेज / Dard Ke Dastavej
Author
Category, ,
Language
Pages 94
Quality Good
Size 500 KB
Download Status Available

दर्द के दस्तावेज पुस्तक का कुछ अंश : संसार में जितने प्रसिद्ध स्थान तथा नगर हैं उनकी ख्याति के कुछ न कुछ विशेष कारण अवश्य होते हैं| जहाँ प्राचीन इतिहास हम को पूर्व वैभव का ज्ञान कराता है वहां प्राचीन स्थान अथवा नगर पूर्व शिल्प तथा अभ्युदय को बतलाते हैं| क्या कारण है कि आज सहस्त्रों वर्ष के परिवर्तन होने पर भी राम की अयोध्या, कृष्ण की मथुरा, बुद्ध की कपिलवस्तु नगरी का नाम स्मरण करते ही मस्तक प्रसन्न हो जाता है, ह्रदय तेल्लीन हो जाता है और शरीर में रोमांच हो आते हैं?…………..

Dard Ke Dastavej PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Sansar mein jitane prasiddh sthan tatha nagar hain unki khyati ke kuchh na kuchh vishesh karan avashy hote hain. Jahan pracheen itihas ham ko purv vaibhav ka gyan karta hai vahan pracheen sthan athava nagar poorv shilp tatha abhyuday ko batlate hain. Kya karan hai ki aaj sahastron varsh ke parivartan hone par bhee Ram ki ayodhya, krshn ki mathura, buddh ki kapilavastu nagari ka nam smaran karte hee mastak prasann ho jata hai, hraday telleen ho jata hai aur shareer mein romanch ho aate hain ?…………..
Short Passage of Dard Ke Dastavej Hindi PDF Book : All the famous places and cities in the world have some special reasons for their fame. Where ancient history gives us the knowledge of past glory, there ancient places or cities tell us about past craft and development. What is the reason that even after thousands of years of change, the name of Ram’s Ayodhya, Krishna’s Mathura, Buddha’s Kapilvastu city, the head becomes happy, the heart becomes engrossed and the body becomes thrilled ?……….
“खेलों के बारे में अकसर ऐसे कहा जाता है मानो यह गंभीर शिक्षा से राहत हो। लेकिन बच्चों के लिए खेल गंभीर शिक्षा ही है। खेल ही वास्तव में बचपन का काम है।” फ्रेड रोजर्स
“Play is often talked about as if it were a relief from serious learning. But for children play is serious learning. Play is really the work of childhood.” Fred Rogers

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment