डायन- वेदप्रकाश शर्मा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Dayan by Ved Prakash Sharma Free Hindi Book |

Book Nameडायन / Dayan
Author
Category, , ,
Language
Pages 182
Quality Good
Size 30.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : लड़के के हलक से कराहें निकलने लगीं और जल्दी ही वह पूरी तरह होश में आ गया। अब उसके मुंह से दर्द में डूवी चीखें निकल रही थीं। आंखें हैरत से फटी हुई थीं और चेहरे के जर्रें-जर्रें पर खौफ के साए मंडरा रहे थे। चीखों के बीच वह अपनी आवाज को बड़ी मुश्किल से शब्द दे सका धा-“क-कोीन हो तुम? मुझे यहां क्‍यों लाई हो और इस तरह क्‍यों लटका रखा है……..

Pustak Ka Vivaran : Ladke ke halak se karahen nikalane lageen aur jaldi hi vah poori tarah hosh mein aa gaya. Ab uske munh se dard mein doovi cheekhen nikal rahi theen. Aankhen hairat se phati huyi theen aur chehare ke jarren-jarren par khauph ke sae mandara rahe the. Cheekhon ke beech vah apni aavaj ko badi mushkil se shabd de saka dha-“ka-koin ho tum? Mujhe yahan k‍yon layi ho aur is tarah k‍yon latka rakha hai……

Description about eBook : Moaning started pouring out of the boy’s face and soon he was fully conscious. Now screams were coming out of his mouth in pain. His eyes were torn in astonishment, and fear loomed large over every corner of his face. Amidst the screams, he could hardly give words to his voice. Why have you brought me here and why have you hanged me like this………

“प्रेम करने वाला व्यक्ति प्रेम की दुनिया में रहता है। झगड़ालू व्यक्ति युद्ध जैसी दुनिया में रहता है। प्रत्येक ऐसा जिससे आप मिलते हैं, वह आपकी ही छवि होती है।” ‐ केन कैन्स, जूनियर
“A loving person lives in a loving world. A hostile person lives in a hostile world. Everyone you meet is your mirror.” ‐ Ken Keyes, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “डायन- वेदप्रकाश शर्मा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Dayan by Ved Prakash Sharma Free Hindi Book |”

Leave a Comment