धारणा और ध्यान : स्वामी सिवानन्दा सरस्वती द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Dhaarna Aur Dhyan : by Swami Sivananda Saraswati Hindi PDF Book

Book Nameधारणा और ध्यान / Dhaarna Aur Dhyan
Category, , , ,
Pages 156
Quality Good
Size 69 MB
Download Status Available

धारणा और ध्यान का संछिप्त विवरण : धारणा और ध्यान सिद्धि हेतु राज-मार्ग है। धारणा ध्यान हेतु प्रेरित करती है। मन को शरीर के बाहर अथवा भीतर किसी एक बिंदु पर केंद्रित करके ,उसे वहाँ कुछ देर के लिए स्थिर कीजिए। यह धारणा है। आपको इसका नित्य अभ्यास करना चाहिए। पहले उत्तम आचरण के अभ्यास द्वारा अपने मन को स्थिर कीजिए , तत्पश्चात धारणा का अभ्यास कीजिए। मन शुद्धता के बिना कोई लाभ नहीं है……….

Dhaarna Aur Dhyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dhaarna aur dhyan siddhi hetu raaj-maarg hai. Dhaarna dhyaan hetu prerit karti hai. Man ko shareer ke baahar athava bheetar kisi ek bindu par kendrit karke ,use vahan kuchh der ke liye sthir keejiye. yah dhaarna hai. aapko iska nitya abhyaas karna chahiye. Pahle uttam aacharan ke abhyaas dvaara apne man ko sthir keejie , Tatpashchat dhaarna ka abhyaas keejie. man shuddhata ke bina koi labh nahin hai………….
Short Description of Dhaarna Aur Dhyan PDF Book : There is a road for perception and meditation. The impression inspires attention. By focusing the mind on any one point outside or outside the body, make it stable for some time there. This is the impression. You should practice it regularly. Stabilize your mind first by practicing the best practice, then practice the notion. There is no benefit without purity of mind……………
“आप चाहे कितना भी अच्छा क्यों न कर लें, आप हमेशा और बेहतर कर सकते हैं और यही तो रोमांच की बात है।” ‐ टाइगर वुड्स
“No matter how good you get you can always get better and that’s the exciting part.” ‐ Tiger Woods

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment