धर्मशास्त्र अर्थात पुराना और नया धर्म नियम : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Dharmshastra Arthat Purana Aur Naya Dharm Niyam : Hindi PDF Book – Religious ( Dharmik )

धर्मशास्त्र अर्थात पुराना और नया धर्म नियम : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Dharmshastra Arthat Purana Aur Naya Dharm Niyam : Hindi PDF Book - Religious ( Dharmik )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name धर्मशास्त्र अर्थात पुराना और नया धर्म नियम / Dharmshastra Arthat Purana Aur Naya Dharm Niyam
Author
Category,
Language
Pages 1726
Quality Good
Size 90 MB
Download Status Available

धर्मशास्त्र अर्थात पुराना और नया धर्म नियम पुस्तक का कुछ अंश : १ सृष्टि का वर्णन आदि में परमेश्वर ने आकाश और पृथ्वी की सृष्टि की | २ और पृथ्वी बेडौल और सुनसान पड़ी थी, और गहरे जल के ऊपर अश्थियारा था तथा परमेश्वर का आत्म जल के ऊपर मंडराता था | ३ तब परमेश्वर ने कहा, उजियाला हो : तो उजियाला हो गया | ४ और परमेश्वर ने उजियाले को देखा कि अच्छा है, और परमेश्वर ने उजियाले को अश्थियारे से अलग किया……..

Dharmshastra Arthat Purana Aur Naya Dharm Niyam PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : 1 Srshti ka varnan aadi mein parameshvar ne aakash aur prthvi ki srshti ki. 2 Aur prthvi bedaul aur sunsan padi thi, aur gahre jal ke upar andhiyara tha tatha parameshvar ka aatm jal ke upar mandrata tha. 3 Tab parameshvar ne kaha, ujiyala ho to ujiyala ho gaya. 4 Aur parameshvar ne ujiyale ko dekha ki accha hai, aur parameshvar ne ujiyale ko andhiyare se alag kiya……………
Short Passage of Dharmshastra Arthat Purana Aur Naya Dharm Niyam Hindi PDF Book : 1 In the description of creation, God created the heavens and the earth. 2 And the earth was faint and loathsome, and darkness was upon the face of the deep, and the Spirit of God ascended above the waters. 3 Then God said, Let it be light: it is light. 4 And God saw the light that is good, and God separated the light from the darkness…………..
“रोष एक बोझ है जो आपकी सफलता के साथ असंगत है। क्षमा करने में अव्वल रहें; और अपने आपको सबसे पहले क्षमा करें।” ‐ डेन जाड्रा
“Resentment is one burden that is incompatible with your success. Always be the first to forgive; and forgive yourself first always.” ‐ Dan Zadra

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment