ध्वनि सम्प्रदाय और उसके सिद्धान्त भाग – १ : डा० भोलाशंकर व्यास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Dhwani Sampradaya Aur Uske Siddhant Part – 1 : by Dr. Bholashankar Vyas Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

ध्वनि सम्प्रदाय और उसके सिद्धान्त भाग - १ : डा० भोलाशंकर व्यास द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Dhwani Sampradaya Aur Uske Siddhant Part - 1 : by Dr. Bholashankar Vyas Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ध्वनि सम्प्रदाय और उसके सिद्धान्त भाग – १ / Dhwani Sampradaya Aur Uske Siddhant Part – 1
Author
Category, ,
Language
Pages 534
Quality Good
Size 63 MB
Download Status Available

ध्वनि सम्प्रदाय और उसके सिद्धान्त भाग – १ का संछिप्त विवरण : जयपुर राज्य के शेखावाटी प्रांत में खेतड़ी राज्य है | वहां के राजा श्री अजीतसिंह जी बहादुर बड़े यशस्वी और विद्याप्रेमी हुए | गणितशास्त्र में उनकी अद्भुत गति थी | विज्ञान उन्हें बहुत प्रिय था | राजनीति में वह दक्ष और गुणग्राहिता में अद्वितीय थे | दर्शन और अध्यात्म की रूचि उन्हें इतनी थी कि विलायत जाने के पहले और पीछे स्वामी विवेकानंद उनके यहाँ महीनो रहे……..

Dhwani Sampradaya Aur Uske Siddhant Part – 1 Par PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jaypur rajy ke shekhavati prant mein khetadi rajy hai. Vahan ke Raja shri ajitasinh ji bahadur bade yashasvi aur vidyapremi hue. Ganitashastr mein unki adbhut gati thi. Vigyan unhen bahut priy tha. Rajaniti mein vah daksh aur gunagrahita mein advitiy the. Darshan aur adhyatm ki ruchi unhen itni thi ki vilayat jane ke pahle aur pichhe swami vivekanand unke yahan mahino rahe…………
Short Description of Dhwani Sampradaya Aur Uske Siddhant Part – 1 PDF Book : Khetri is the state of Shekhawati in the state of Jaipur. King Ajit Singh Ji Bahadur was a successful and philanthropist. He had amazing movement in mathematics. Science was very dear to him. In politics, he was unique in skillful and virtuosity. His interest in philosophy and spirituality was so much that Swami Vivekananda was there before and during his departure…………….
“दीर्घायु होना नहीं बल्कि जीवन की गुणवत्ता का महत्त्व होता है।” ‐ मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“The quality, not the longevity of one’s life is what is important.” ‐ Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment