एक के ज्ञान से सर्व का ज्ञान : स्वामी माधव तीर्थजी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Ek Ke Gyan Se Sarv Ka Gyan : by Swami Madhav Tirthji Hindi PDF Book – Granth

Book Nameएक के ज्ञान से सर्व का ज्ञान / Ek Ke Gyan Se Sarv Ka Gyan
Author
Category, ,
Language
Pages 49
Quality Good
Size 454 MB
Download Status Available

एक के ज्ञान से सर्व का ज्ञान का संछिप्त विवरण : वेदान्त की मुख्य प्रतिज्ञा यह है कि एक के ज्ञान से सर्व का ज्ञान होता है, ऐसी प्रतिज्ञा कैसे सिद्ध हो उसके उपाय इस पुस्तक में दिये गए है | इस पुस्तक में आखरी निर्णय दिया हुआ होने से शुद्ध अंतःकरण वाले की रूचि के अनुसार ज्ञान इसमें से मिलेगा | जिन्होंने दानपुण्य करके दोष निवृत्ति की हो उनको ऐसी बात में बराबर रूचि उत्पन्न होती है…….

Ek Ke Gyan Se Sarv Ka Gyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vedant ki mukhy pratigya yah hai ki ek ke gyan se sarv ka gyan hota hai, aisi pratigya kaise siddh ho uske upay is pustak mein diye gae hai. Is pustak mein aakhari nirnay diya hua hone se shuddh ant:karan vale ki ruchi ke anusar gyaan ismen se milega. Jinhonne danpuny karke dosh nivrtti ki ho unko aisi baat mein barabar ruchi utpann hoti hai…………
Short Description of Ek Ke Gyan Se Sarv Ka Gyan PDF Book : The main pledge of Vedanta is that knowledge of all is made by the knowledge of one, the remedy for such a vow is proven in this book. With the final decision in this book, knowledge will be given in accordance with the wishes of the pure soul. Those who are repayed by charity, they get equal interest in such a thing…………..
“तीन चीजों को ज्यादा देर तक छुपाया नहीं जा सकता – सूरज, चांद, और सत्य।” बुद्ध
“Three things cannot be long hidden – the sun, the moon, and the truth.” Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment