सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

एक मधुमक्खी और एक गुलाब / Ek Madhumakkhi Aur Ek Gulab

एक मधुमक्खी और एक गुलाब : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Ek Madhumakkhi Aur Ek Gulab : Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name एक मधुमक्खी और एक गुलाब / Ek Madhumakkhi Aur Ek Gulab
Author
Category, ,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 558 KB
Download Status Available
आप इस पुस्तक को नीचे दिए गए लिंक से खरीद सकते हैं, यह डाउनलोड हेतु उपलब्ध नहीं है|

एक मधुमक्खी और एक गुलाब का संछिप्त विवरण : वो खुद अकेले न तो शवों को पत्तों से ढंक संकता था और न ही उनकी याद में कोई मज़ार बना सकता था। छत्ते के नियम-कानून में मरी मधुमक्खियों के दफनाने का कोई प्रावधान न था। और अगर नियम-कानून बने हैं.तो वे ठीक ही होंगे? अगर तुम मधुमक्खी हो तो तुम्हें उनके नियम-कानूनों को मानना ही पड़ेगा। और अगर तुमने मधुमक्खी के रूप में जन्म लिया है तो फिर तुम मधुमक्खी के अलावा…..

Ek Madhumakkhi Aur Ek Gulab PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Vo Khud Akele na to Shavon ko Patton se dhank sankata tha aur na hi Unki yad mein koi Mazar bana sakata tha. Chhatte ke Niyam-kanoon mein mari Madhumakkhiyon ke Dafanane ka koi Pravdhan na tha. Aur agar Niyam-kanoon bane hain.to ve theek hi honge ? Agar tum Madhumakkhi ho to tumhen unke niyam-kanoonon ko manana hi padega. Aur agar tumane Madhumakkhi ke roop mein janm liya hai to phir tum Madhumakkhi ke alava………
Short Description of Ek Madhumakkhi Aur Ek Gulab PDF Book : He himself could neither cover the dead bodies with leaves nor could he build a mausoleum in their memory. There was no provision for burial of dead bees in the rules and regulations of the hive. And if there are rules and regulations, then they will be fine? If you are a bee then you have to follow their rules and regulations. And if you are born as a bee, then you are other than the bee………
“कोई आप पर ध्यान दे वह उदारता का सबसे दुर्लभ और सबसे शुद्ध रूप है।” सिमोन वैल
“Attention is the rarest and purest form of generosity.” Simone Weil

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment