हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

यूरोप का इतिहास भाग-4 / Europe Ka Itihas Bhag-4

यूरोप का इतिहास भाग-4 : कालूराम शर्मा और डॉ. प्रकाश व्यास द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Europe Ka Itihas Bhag-4 : by Kaluram Sharma And Dr. Prakash Vyas Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name यूरोप का इतिहास भाग-4 / Europe Ka Itihas Bhag-4
Author,
Category, ,
Pages 570
Quality Good
Size 28.00 MB
Download Status Available

यूरोप का इतिहास भाग-4 पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : फ्रांसीसी क्रान्ति के फलस्वरूप यूरोपीय राजनैतिक मंच पर महान लि ड्स परिवर्तित राजनैतिक रंगमंच पर फ्रांसीसी क्रांति के पुत्र नेपोलियन प्रथम ने अत्यन्त ही मोहक किया। उसने यूरोप की पुरानी सीमा व्यवस्था को अपनी सुविधानुसार परिवर्तित करके यूरोप के पुराने मानचित्र को ही बदल दिया । इस प्रकार 8 ई० तक यूरोप पर सर्वत्र नेपोलियन का प्रभुत्व छा गया। किन्तु 82 ई० के रूस अभियान की असफलता के परिणामस्वरूप उसकी शक्ति को गहरा धक्का लगा 80%………..

Europe Ka Itihas Bhag-4 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Fransisi kranti ke phalasvaroop yooropiy rajanaitik manch par mahan parivartan hue. Is parivartit rajanaitik rangamanch par Fransisi kranti ke putr Nepoliyan pratham ne atyant hi mohak abhinay kiya. Usane yoorop ki purani sima vyavastha ko apani suvidhanusar parivartit karake yoorop ke purane manachitr ko hi badal diya. Is prakar 1811 tak yoorop par sarvatr nepoliyan ka prabhutv chha gaya. Kintu 1812 ke roos abhiyan ki asaphalata ke parinamasvaroop usaki shakti ko gahara dhakka laga………….

Short Description of Europe Ka Itihas Bhag-4 Hindi PDF Book : The French Revolution resulted in great changes on the European political platform. Napoleon I, the son of the French Revolution, played a very seductive act on this converted political theater. By converting the old border system of Europe to its convenience, it changed the old map of Europe. Thus, over 1811 CE, the dominion of Napoleon dominates everywhere. But due to the failure of the Russia campaign of 1812 AD, his power was deeply shocked……………….

 

“वह व्यक्ति ग़रीब नहीं है जिसके पास थोड़ा बहुत ही है। ग़रीब तो वह है जो ज़्यादा के लिए मरा जा रहा है।” ‐ सैनेका, रोमन दार्शनिक
“It is not the man who has too little, but the man who craves more, that is poor.” ‐ Lucius Annaeus Seneca, Roman Philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

2 thoughts on “यूरोप का इतिहास भाग-4 / Europe Ka Itihas Bhag-4”

Leave a Comment