यूरोपीय राष्ट्रों का इतिहास खंड-2 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | European Rashtron Ka Itihas Khand-2 Hindi PDF Book

यूरोपीय राष्ट्रों का इतिहास खंड-2 हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | European Rashtron Ka Itihas Khand-2 Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name यूरोपीय राष्ट्रों का इतिहास खंड-2 / European Rashtron Ka Itihas Khand-2
Author
Category, ,
Pages 234
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

यूरोपीय राष्ट्रों का इतिहास खंड-2 का संछिप्त विवरण : अब हम युरोपीय इतिहास के तीसरे खण्ड में प्रवेश करते हैं। इसे नवीन काल कहते हैं क्योंकि इसी काल में नये विचारों, नये भावों और नये धर्मों का आरंभ हुआ। यह काल अब से लगभग साढ़े चार सौ बर्ष पूर्व आरंभ हो गया था | हम देख चुके हैं कि जब सम्राट कान्स्टेन्टाइन ने ईसाई धर्म का पुनरुद्धार किया, तभी से मध्यकाल का आरम्भ समझा जाता है। अतः ऐसे समय में जब उस धर्म का हास तथा नये प्रोटेस्टेन्ट मत का उदय हुआ, मध्यकाल की समाप्ति करना उचित ही हैं……..

European Rashtron Ka Itihas Khand-2 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ab ham yuropiy itihas ke tisare khand mein pravesh karate hain. ise navin kal kahate hain kyonki isi kal mein naye vicharon, naye bhavon aur naye dharmon ka arambh hua. Yah kal av se lagabhag sadhe char sau varsh poorv arambh ho gaya tha. Ham dekh chuke hain ki jab samrat anstentain ne isai dharm ka punaruddhar kiya, tabhi se madhyakal ka arambh samajha jata hai. Atah aise samay mein jab us dharm ka hras tatha naye protestent mat ka uday hua, madhyakal kee samapti karana uchit hi hai………….
Short Description of European Rashtron Ka Itihas Khand-2 PDF Book : Now we enter the third volume of European history. It is called the new age because in this period new ideas, new expressions and new religions started. This period started from around 4,500 years ago. We have seen that when Emperor Constantine revived Christianity, since then it is considered the beginning of the medieval period. So at a time when the decline of that religion and the emergence of a new Protestant vote, the termination of the medieval is justified…………
“मैं कठिनाईयों से बचने की प्रार्थना नहीं करता हूं, बल्कि मैं उन्हें सहन करने के लिए पर्याप्त सामर्थ्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।”
“I do not pray for a lighter load, but for a stronger back.” ‐ Philip Brookes

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment