गोल्सवर्दी के तीन नाटक- प्रेमचंद मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Gaalsavardi Ke Teen Natak by Premchand Hindi Book Free Download

Book Nameगोल्सवर्दी के तीन नाटक / Gaalsavardi Ke Teen Natak
Author
Category, ,
Language
Pages 278
Quality Good
Size 4.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : परदा उठता है, और बार्थिविक का नये ढंग से सजा हुआ बड़ा खाने का कमरा दिखाई देता है | खिड़की के परदे खिंचे हुये हैं| बिजली की रोशनी हो रही है | एक बड़ी गोल खाने की मेज पर एक तश्तरी रखी हुई है, जिसमें एक नल की ओर एक चाबी की सिगरेट की डिविया है | आधी रात गुजर चुकी है |
दरवाजे के बाहर कुछ हलचल सुनाई देती है | दरवाजा झोके से खुलता है, जैक बार्थिविक कमरे में इस तरह आता है, मानो गिर पड़ा हो| वह दरवाजे का कूड़ा पकड़कर खड़ा सामने देख रहा है और मानव से मुस्कुरा ए=रहा है वह शाम के कपड़े पहिने हुए है, उसके…………..

Pustak ka Vivaran : Parada uthata hai, aur baarthivik ka naye dhang se saja hua bada khaane ka kamara dikhaee deta hai. Khidakee ke parade khinche huye hain| bijalee kee roshanee ho rahee hai. Ek badee gol khaane kee mej par ek tashtaree rakhee huee hai, jisamen ek nal kee or ek chaabee kee sigaret kee diviya hai. Aadhee raat gujar chukee hai. Daravaaje ke baahar kuchh halachal sunaee detee hai. Daravaaja jhoke se khulata hai, jaik baarthivik kamare mein is tarah aata hai, maano gir pada ho. Vah daravaaje ka kooda pakadakar khada saamane dekh raha hai aur maanav se muskura raha hai vah shaam ke kapade pahine hue hai, usake………
Description of the book: The curtain rises, and Barthwick’s newly decorated large dining room is visible. Window curtains are pulled. Lightning is on On a large round dining table there is a saucer, with a key towards one of the taps is the cigarette diva. Midnight has passed.
Some movement is heard outside the door. The door opens with a sigh, Jack Barthwick enters the room as if he had fallen. He is standing holding the garbage of the door, looking in front and smiling at the human, he is dressed in evening clothes, his ………
“अगर आप सिर्फ वही करते हैं जो आप जानते हैं कि आप कर सकते हैं – तो आप कभी ज्यादा कुछ नहीं करते।” टॉम क्रौस
“If you only do what you know you can do- you never do very much.” Tom Krause

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “गोल्सवर्दी के तीन नाटक- प्रेमचंद मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Gaalsavardi Ke Teen Natak by Premchand Hindi Book Free Download”

  1. प्रेमचंद द्वारा जॉन गाल्सवास्की के नाटकों का अनुवाद ( चाँदी की डिबिया , हड़ताल, न्याय ) का PDF डाउनलोड नहीं हो रहा। कृपया PDF ईमेल ! धन्यवाद

    Reply
    • नमस्कार| हमें त्रुटी से अवगत कराने के लिए धन्यवाद्, पुस्तक का लिंक अपडेट कर दिया गया है अब आप इसे डाउनलोड कर सकते हैं| धन्यवाद्|

      Reply

Leave a Comment