गीता संग्रह : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Geeta Sangrah : Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameगीता संग्रह / Geeta Sangrah
Category, , ,
Language
Pages 675
Quality Good
Size 4.3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ‘वह धर्म ब्रहमपद की प्राप्ति कराने के लिए पर्याप्त था, वह सारा-का-सारा धर्म उसी रूप मैं फिर दुहरा देना अब मेरे वश की बात भी नहीं है। उस समय योगयुक्‍त होकर मैंने परमात्मतत्व का वर्णन किया था। अब उस विषय का ज़ान कराने के लिए मैं एक प्राचीन इतिहास का वर्णन करता हूँ। ” फिर भगवान ने अर्जुन को जो………

Pustak Ka Vivaran : Vah Dharm Brahmapad kee prapti karane ke liye paryapt tha, vah sara-ka-sara dharm usi roop mein phir duhara dena ab mere vash kee bat bhee nahin hai. Us samay yogayukt hokar mainne paramatmatatv ka varnan kiya tha. Ab us vishay ka gyan karaane ke liye main ek prachin itihas ka varnan karata hoon. Phir Bhagavan ne Arjun ko jo………….

Description about eBook : ‘That religion was enough to get the Brahmapadas, it is no longer a matter of my subjugation to repeat the same religion in the same form. Having been yogic at that time I had described Paramatmatta. Now, to illustrate the subject, I describe an ancient history. ‘ Then God called Arjuna…………..

“अपेक्षा ही मनोव्यथा का मूल है।” विलियम शेक्सपियर
“Expectation is the root of all heartache.” William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment