घनानंद काव्य और आलोचना : डॉ. किशोरीलाल गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Ghananand Kavya Aur Alochana : by Dr. Kishori Lal Gupt Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

Book Nameघनानंद काव्य और आलोचना / Ghananand Kavya Aur Alochana
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 439
Quality Good
Size 48.46 MB
Download Status Available

घनानंद काव्य और आलोचना पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : ‘सृजन सागर’ नाम से घनानंद की रचनाओं का एक विशाल संग्रह ब्रज भाषा के मर्मजञ बाबू जगन्नाथदास रत्नाकर ने बनारस से मुद्रित कराया था, पर उसके पथ और अर्थ के सम्बन्ध में कई स्थलों पर संदिग्ध चिह्न लगा कर अमीर सिंह ने ‘रसखान और घनानंद’ नाम से कशी…….

Ghananand Kavya Aur Alochana PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Srjan Sagar nam se Ghananand kee rachanaon ka ek vishal sangrah braj bhasha ke marmagy babu jagannathadas ratnakar ne banaras se mudrit karaya tha, par usake path aur arth ke sambandh mein kayi sthalon par sandigdh chihn laga kar ameer sinh ne rasakhan aur ghananand nam se kashi…………

Short Description of Ghananand Kavya Aur Alochana Hindi PDF Book : A vast collection of the compositions of Ghanananda by ‘Srajan Sagar’ was printed with the inscription of Braj language, Babu Jagannath Das Ratnakar from Benaras, but with regard to his path and meaning, with a suspicious mark on many places, Amir Singh gave ‘Raskhan and Ghananand’ By name………………

 

“अपने डैनों के ही बल उड़ने वाला कोई भी परिंदा बहुत ऊंचा नहीं उड़ता।” विलियम ब्लेक (१७५७-१८२७), अंग्रेज़ कवि व कलाकार
“No bird soars too high if he soars with his own wings.” William Blake (1757-1827), British Poet and Artist

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment