गोलतत्व प्रकाशिका : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Golatatv Prakashika : Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameगोलतत्व प्रकाशिका / Golatatv Prakashika
Author
Category, ,
Language
Pages 131
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

गोलतत्व प्रकाशिका पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : इस संसार में मनुष्य को उसकी सेवानुरूप फलप्राप्ति के विषय में केवल धन वैभवदिहि नहीं देखा जाता वरन यहाँ तक देखा जाता है कि सेवक अपनी सेवा के प्रभाव से सेव्यजन पर पूर्णाधिकार जमा लेता है। इस बात के प्रमाण प्रजा पर अधिकार जमाने वाले राजा के सिवाय वर्णत्रय की समाज पर अधिकार ज़माने हारे ब्राह्मण और परमपुरुष पर हुक्म वर्णत्रय……

Golatatv Prakashika PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Is Sansar mein Manushy ko usaki Sevanuroop phalaprapti ke vishay mein keval dhan vaibhavadihi nahin dekha jata varan yahan tak dekha jata hai ki sevak Apani seva ke prabhav se sevyajan par Poornadhikar jama leta hai. Is bat ke Praman praja par Adhikar jamane vale Raja ke sivay varnatray ki samaj par adhikar zamane hare brahman aur paramapurush par hukm varnatray……..

Short Description of Golatatv Prakashika Hindi PDF Book : In this world, man is not only seen in the matter of his retirement, but it is also seen that the servant collects the right of life on the basis of his service. Evidence of this is that except for the king who has authority over the subjects, the characters of the varnas, who have lost their rights on the society and the rulers of the Brahmin and the paramount men ……

“रोटी या सुरा या लिबास की तरह कला भी मनुष्य की एक बुनियादी ज़रूरत है। उसका पेट जिस तरह से खाना मांगता है, वैसे ही उसकी आत्मा को भी कला की भूख सताती है।” ‐ इरविंग स्टोन
“Art’s a staple. Like bread or wine or a warm coat in winter. Those who think it is a luxury have only a fragment of a mind. Man’s spirit grows hungry for art in the same way his stomach growls for food.” ‐ Irving Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment