गुलज़ार की त्रिवेणिया मुफ्त हिंदी पुस्तक | Gulzar Ki Triveniyan Free Hindi Pdf | Hindi Pdf Books

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गुलज़ार की त्रिवेणिया / Gulzar Ki Triveniyan
Author
Category,
Language
Pages 5
Quality Good
Size 54 KB
Download Status Available

गुलज़ार की त्रिवेणिया पुस्तक का कुछ अंश : कभी कभी बाजार में यूँ भी हो जाता है कीमत ठीक थी,जेब में इतने दाम नहीं थे ऐसे ही इक बार मैं तुम को हार आया था। १२. वह मेरे साथ ही था दूर तक मगर इक दिन जो मुड के देखा तो वह दोस्त मेरे साथ न था फटी हो जेब तो कुछ सिक्के खो भी जाते हैं। १३.वह जिस साँस का रिश्ता बंधा हुआ था मेरा दबा के दाँत तले……..

Gulzar Ki Triveniyan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Kabhi Kabhi bajar mein yoon bhi ho jata hai keemat theek thee, jeb mein itne dam nahin the aise hi ik bar main tum ko har aaya tha. 12. Vah mere sath hi tha door tak magar ik din jo mud ke dekha to vah dost mere sath na tha phat ho jeb to kuchh sikke kho bhi jate hain. 13.vah jis sans ka rishta bandha huya tha mera daba ke dant tale……..
Short Passage of Gulzar Ki Triveniyan Hindi PDF Book : Sometimes it happens in the market that the price was right, I did not have that much money in my pocket, just like that I had lost you once. 12. He was with me till far, but one day when I turned around, that friend was not with me; 13. The breath with which I was tied, pressing it under my teeth…..
“सब कुछ स्पष्ट होने पर ही निर्णय लेने का आग्रह जो पालता है, वह कभी निर्णय नहीं ले पाता।” हेनरी फ़्रेडरिक आम्येल (१८२१-१८८१), स्विस कवि एवं दार्शनिक
“The man who insists on seeing with perfect clarity before he decides, never decides.” Henri Frederic Amiel (1821-1881), Swiss poet and philosopher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “गुलज़ार की त्रिवेणिया मुफ्त हिंदी पुस्तक | Gulzar Ki Triveniyan Free Hindi Pdf | Hindi Pdf Books”

    • नमस्कार समस्या से अवगत कराने के लिए धन्यवाद्| लिंक अपडेट कर दिया गया है अब आप पुस्तक डाउनलोड कर सकते हैं| धन्यवाद्!

      Reply

Leave a Comment