गुरुत्व ज्योतिष 11 नवम्बर से 17 नवम्बर 2018 (सूर्य उपासना का अद्भुत पर्व सूर्य षष्ठी) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Gurutva Jyotish 11 November – 17 November 2018 (Sury Upasana Ka Adbhut Parv Sury Shashthi) : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

गुरुत्व ज्योतिष 11 नवम्बर से 17 नवम्बर 2018 (सूर्य उपासना का अद्भुत पर्व सूर्य षष्ठी) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Gurutva Jyotish 11 November - 17 November 2018 (Sury Upasana Ka Adbhut Parv Sury Shashthi) : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गुरुत्व ज्योतिष 11 नवम्बर से 17 नवम्बर 2018 (सूर्य उपासना का अद्भुत पर्व सूर्य षष्ठी) / Gurutva Jyotish 11 November – 17 November 2018 (Sury Upasana Ka Adbhut Parv Sury Shashthi)
Author
Category, ,
Language
Pages 60
Quality Good
Size 4.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एक अन्य कथा के अनुसार महर्षि मनु के पुत्र राजा प्रियव्रत को विवाह के पश्च्यात अधिक समय बीत जाने के बाद भी कोई संतान नहीं हुई, तो महर्षि कश्यप ने पुत्रेष्टि यज्ञ का आयोजन कराकर उनकी पत्नी को प्रसाद दिया। यज्ञ के प्रभाव व ऋषि के प्रसाद से रानी को गर्भ ठहर गया, लेकिन रानी ने एक मृत पुत्र को जन्म दिया, जिसे देखकर रानी उस क्षण ही मूर्च्छित हो…….

Pustak Ka Vivaran : Ek any katha ke anusar Maharshi manu ke putra Raja priyavrat ko vivah ke pashchyaat adhik samay beet jane ke bad bhi koi santan nahin huyi, to maharshi kashyap ne putreshti yagy ka aayojan karakar unaki patni ko prasad diya. Yagy ke prabhav va rishi ke prasad se Rani ko garbh thahar gaya, lekin Rani ne ek mrt putr ko janm diya, jise dekhakar Rani us kshan hi moorchchhit ho……..

Description about eBook : According to another legend, King Priyavrat, son of Maharishi Manu, had no children even after the lapse of time after marriage, then Maharishi Kashyap organized a Putreshti Yajna and offered his wife. Due to the effects of the yagna and the offerings of the sage, the queen was conceived, but the queen gave birth to a dead son, seeing that the queen was unconscious at that moment ……..

“एक सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में साहस का या फिर ज्ञान का अंतर नहीं होता है बल्कि यदि अंतर होता है तो वह इच्छाशक्ति का होता है।” ‐ विसेंट जे. लोम्बार्डी
“The difference between a successful person and others is not a lack of strength, not a lack of knowledge, but rather in a lack of will.” ‐ Vincent J. Lombardi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment