हमारे सार्वजानिक अवकाश कब और क्यों : डॉ. कुमारी सन्ध्या अग्रवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Hamare Sarvjanik Avkash Kab Aur Kyon : by Dr. Kumari Sandhya Agrawal Hindi PDF Book – Social (Samajik)

हमारे सार्वजानिक अवकाश कब और क्यों : डॉ. कुमारी सन्ध्या अग्रवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Hamare Sarvjanik Avkash Kab Aur Kyon : by Dr. Kumari Sandhya Agrawal Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हमारे सार्वजानिक अवकाश कब और क्यों / Hamare Sarvjanik Avkash Kab Aur Kyon
Author
Category
Language
Pages 24
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

हमारे सार्वजानिक अवकाश कब और क्यों पुस्तक का कुछ अंशअवकाश का अर्थ है छुट्टी-यानि एक दैनिक निश्चित क्रम से विश्राम | वैसे तो नदी की भांति सतत्‌ गतिशील रहना ही जीवन की मूल पहचान है पर अवकाश की भी अपनी आवश्यकता और उपयोगिता है। इससे तन और मन दोनों को एक नवीन उत्साह और एक नया विश्वास मिलता है। अवकाश के महत्त्व को समझते हुए ही सरकारी व सामाजिक संस्थाओं में समय-समय पर इसका प्रावधान किया गया है। सामान्य रूप से एक माह में चार-पाँच साप्ताहिक अवकाश होते हैं और इनके अतिरिक्त विशेष अवसरों पर भी छुट्टियां दी जाती हैं। इनका निर्धारण अंग्रेजी कलेण्डर तथा विभिन्‍न धर्मो और जातियों के तिथि………

Hamare Sarvjanik Avkash Kab Aur Kyon PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Avkash ka Arth hai chhutti-yani ek dainik nishchit kram se vishram. Vaise to Nadi ki bhanti satat‌ gatisheel rahana hi jeevan ki mool pahchan hai par avkash kee bhee apni aavashyakata aur upayogita hai. Isase tan aur man donon ko ek naveen utsah aur ek naya vishvas milata hai. Avkash ke mahattv ko samajhate huye hi sarkari va samajik sansthaon mein samay-samay par isaka pravadhan kiya gaya hai. Samany roop se ek mah mein chaar-panch saptahik avkash hote hain aur inake atirikt vishesh avasaron par bhi chhuttiyan dee jati hain. Inka Nirdharan Angreji Calendar tatha vibhin‍na dharmo aur jatiyon ke tithi………
Short Passage of Hamare Sarvjanik Avkash Kab Aur Kyon Hindi PDF Book : Vacation means vacation – that is, rest in a daily fixed order. By the way, to be continuously moving like a river is the basic identity of life, but leisure also has its own need and usefulness. This gives a new enthusiasm and a new confidence to both body and mind. Realizing the importance of leave, its provision has been made from time to time in government and social institutions. Normally there are four-five weekly holidays in a month and apart from these, holidays are also given on special occasions. Their determination is based on the English calendar and the dates of different religions and castes………..
“कभी कभार सुख के पीछे भागना छोड़ कर बस सुखी होना भी एक अच्छी बात है।” ‐ गियोम अपोलिनेयर
“Now and then it’s good to pause in our pursuit of happiness and just be happy.” ‐ Guillaume Apollinaire

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment