हमारी गायें : श्री राम शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Hamari Gayen : by Shri Ram Sharma Hindi PDF Book – Social (Samajik)

हमारी गायें : श्री राम शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Hamari Gayen : by Shri Ram Sharma Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हमारी गायें / Hamari Gayen
Author
Category, ,
Language
Pages 150
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

हमारी गायें का संछिप्त विवरण : अब प्रश्न यह है कि लोग गाय की अपेक्षा भैंस को क्यों रखते है ? पहले तो गाय और भेंस के स्वभाव में अंतर है। अपेक्षाकृत भैंस बधीं रहकर भी गाय को घूमने-फिरने के लिए जगह नहीं मिलती। तीसरे, गाय की अपेक्षा भैंस के दूध में अधिक घी निकलता है। घी के व्यापारी इसलिए भेस के लिए रूपए कर्ज देते है और घी लेकर रुपयों का भुगतान करते है …….

Hamari Gayen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ab prashn yah hai ki log Gay kee apeksha bhains ko kyon rakhate hai ? pahale to gay aur bhains ke svabhav mein antar hai. Apekshakrt bhains badheen rahakar bhee gay ko ghoomane-phirane ke liye jagah nahin milatee. Teesare, gay kee apeksha bhains ke doodh mein adhik ghee nikalata hai. ghee ke vyaapari isaliye bhais ke lie roope karj dete hai aur ghee lekar rupayon ka bhugatan karate hai…………
Short Description of Hamari Gayen PDF Book : Now the question is, why do people keep buffalo instead of cow? First, there is a difference in the nature of cow and buffalo. The cow does not get a place to roam even though it is relatively buffalo. Thirdly, buffalo milk has more ghee than the cow. Traders of ghee therefore give rupee loans for buffalo and pay rupees with ghee……………….
“शरीर के मामले में जो स्थान साबुन का है, वही आत्मा के संदर्भ में आंसू का” ‐ यहूदी कहावत
“What soap is for the body, tears are for the soul.” ‐ Jewish Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment