हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

हरी छिपकलियां और लाल आयत / Hari Chhipakliyan Aur Lal Aayat

हरी छिपकलियां और लाल आयत : स्टीव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Hari Chhipakliyan Aur Lal Aayat : by Steve Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हरी छिपकलियां और लाल आयत / Hari Chhipakliyan Aur Lal Aayat
Author
Category,
Language
Pages 16
Quality Good
Size 1.4 MB
Download Status Available

हरी छिपकलियां और लाल आयत का संछिप्त विवरण : हरी छिपकलियां और लाल आयत दोनों एक-दूसरे से युद्ध में भिड़े हैं. वे एक-दूसरे को धक्का दे रहे हैं, खींच रहे हैं और गिरा रहे हैं. उनमें से कुछ लड़ना चाहते हैं, कुछ छिपना चाहते हैं और कुछ बस किताब के बाहर जाना चाहते हैं ! क्या वे कभी शांति से ज़िंदगी जीने का कोई तरीका खोज पाएंगे ? ज़रा उस छिपकली पर ध्यान रखें जिसके सर पर प्लास्टर……….

Hari Chhipakliyan Aur Lal Aayat PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hari Chhipkaliyan aur Lal Aayat donon ek-doosare se yuddh mein bhide hain. Ve ek-doosare ko dhakka de rahe hain, Kheench rahe hain aur gira rahe hain. Unamen se kuchh ladana chahate hain, kuchh chhipana chahate hain aur kuchh bas kitab ke bahar jana chahate hain ! Kya ve kabhi shanti se zindagi jeene ka koi tareeka khoj payenge ? Zara us Chhipkali par dhyan rakhen jisake sar par plastar……….
hort Description of Hari Chhipakliyan Aur Lal Aayat PDF Book : Both the green lizards and the red rectangle are at war with each other. They are pushing, pulling and dropping each other. Some of them want to fight, some want to hide and some just want to go outside the book! Will they ever find a way to live life in peace? Just keep an eye on the lizard whose head is plastered…………
“आप दुःख के पक्षियों को अपने सिर के ऊपर से उड़ने से नहीं रोक सकते।” – चीनी कहावत
“You cannot prevent the birds of sorrow from flying over your head, but you can prevent them from building nests in your hair.” – Chinese Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment