हिंदी और बृज भाषा व्याकरण मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Hindi and Brij Bakha Grammar Free PDF Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हिंदी और बृज भाषा व्याकरण / Hindi and Brij Bakha Grammar
Author
Category, , ,
Language
Pages 57
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

हिंदी और बृज भाषा व्याकरण पुस्तक का कुछ अंश : अंग्रेजी अक्षरों में ओरिएंटल ध्वनियों का प्रतिनिधित्व करने में, सर विलियम जोन्स की प्रणाली को नियोजित किया गया है, इसलिए नहीं कि इसे अपने आप में सबसे अच्छा माना जाता था, बल्कि इसलिए कि इस संबंध में उपयोग किए जाने वाले कार्यों के साथ इस संबंध में एकरूपता का पालन करना आवश्यक था। . अत: स्वरों का उच्चारण निम्न प्रकार से किया जाना चाहिए……

Hindi and Brij Bakha Grammar PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Angreji Aksharon mein oriental dhvaniyon ka pratinidhitv karne mein, sar wiliam jons ki pranali ko niyojit kiya gaya hai, isliye nahin ki ise apane aap mein sabse achchha mana jata tha, balki isliye ki is sambandh mein upyog kiye jane vale karyon ke sath is sambandh mein ekroopata ka palan karna Aavashyak tha.  At: svaron ka uchcharan nimn prakar se kiya jana chahiye……..
Short Passage of Hindi and Brij Bakha Grammar Hindi PDF Book : In representing the Oriental sounds in English letters, the system of Sir William Jones has been employed, not because it was deemed the best in itself, but because it was necessary to observe uniformity in this respect with the works to be used in connexion with this. The vowels must, therefore, be pro- nounced as follows……..
“जीवन की आधी असफलताओं का कारण व्यक्ति का अपने घोड़े के छ्लांग लगाते समय उसकी लगाम खींच लेना होता है।‌‌‌” चार्ल्स हेयर
“Half the failures of this world arise from pulling in one’s horse as he is leaping.” Augustus Hare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment