हिन्दी उपन्यास के चरित्र में अजनबीपन की भावना : विद्याशंकर राय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Hindi Upanyas Ke Charitra Mein Ajnabipan Ki Bhavana : by Vidhyashankar Rai Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameहिन्दी उपन्यास के चरित्र में अजनबीपन की भावना / Hindi Upanyas Ke Charitra Mein Ajnabipan Ki Bhavana
Author
Category, ,
Language
Pages 267
Quality Good
Size 124 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आधुनिक मनुष्य प्रकृति, ईश्वर और समाज से कट गया है। संभवत यह संसार के इतिहास में पहली बार हुआ है जब मनुष्य स्वयं अपने लिए समस्या बन गया है। आज का मनुष्य एक तरफ दूसरे ग्रहों पर निवास बनाना चाहता है और दूसरी तरफ उसका अपने संसार से सम्बन्ध टूट रहा है। मनुष्य दिन प्रतिदिन इस विश्व के रहस्यों………

Pustak Ka Vivaran : Aadhunik Manushy prakrti, Ishvar aur samaj se kat gaya hai. Sambhavat yah sansar ke itihas mein pahali bar huya hai jab manushy svayan apane lie samasya ban gaya hai. Aaj ka manushy ek taraph doosare grahon par Nivas banaana chahata hai aur doosari taraph usaka apane sansar se sambandh toot raha hai. Manushy din pratidin is vishv ke rahasyon……

Description about eBook : Modern man is disconnected from nature, God and society. This is probably the first time in the history of the world when man himself has become a problem for himself. Today’s man wants to make habitation on other planets on one side and on the other side he is losing connection with his world. Human beings mysteries of this world day by day ……

“वह सब कुछ जो आपने कभी भी चाहा है, वह भय के दूसरी ओर है।” – जॉर्ज एडेयर
“Everything you’ve ever wanted is on the other side of fear.” – George Addair

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment