इतिहास चक्र : राम मनोहर लोहिया द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Itihas Chakra : by Ram Manohar Lohiya Hindi PDF Book

इतिहास चक्र : राम मनोहर लोहिया द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Itihas Chakra : by Ram Manohar Lohiya Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Author
Category, ,
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“जिस प्रकार से श्रम करने से शरीर मजबूत होता है, उसी प्रकार से कठिनाईयों से मस्तिष्क सुदृढ़ होता है।” सेनेका
“Difficulties strengthen the mind, as well as labour does the body.” Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

इतिहास चक्र : राम मनोहर लोहिया द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Itihas Chakra : by Ram Manohar Lohiya Hindi PDF Book

इतिहास चक्र : राम मनोहर लोहिया द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Itihas Chakra : by Ram Manohar Lohiya Hindi PDF Book

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : इतिहास चक्र / Itihas Chakra Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : राममनोहर लोहिया / Ram Manohar Lohiya
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 03.15 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 94
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

 

इतिहास चक्र : राम मनोहर लोहिया द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Itihas Chakra : by Ram Manohar Lohiya Hindi PDF Book

PustakKaVivaran : Bees sal se oopar ki bat hai, barlin yoonivarsiti ke jalapaan grh mein itihas ke kuchh vidyarthi baithe hue the. Unamen se kuchh marksavadi the aur kuchh higel ko manane vale aur mainne unase yah saval poochha ki apani praudh samyata ke bavajood hindustan gulam kaise ho gaya…………

अन्य ऐतिहासिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “ऐतिहासिक हिंदी पुस्तक

Description about eBook : Over twenty years ago, some students of history were sitting in the Berlin University snack home. Some of them were Marxists and some who believe in Hegel and I asked them the question of how to become a Hindustan slave despite their adult compatibility………………

To read other Historical books click here- “Hindi Historical Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“मेरे विचार से जो व्यक्ति जिंदा रहने अर्थात पैसे के लिए किसी कार्य को करता है, वह स्वयं को गुलाम बना लेता है।”
– जोसेफ कैम्पबैल
——————————–
“I think the person who takes a job in order to live that is to say, for the money has turned himself into a slave.”
– Joseph Campbell
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment