जैव तकनीक- बायोटेक्नोलोजी : राज कुमार बंसल द्वारा | मुफ्त बायोटेक्नोलोजी हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Jaiv Takneek- Biotechnology : by Raj Kumar Bansal | Free Biotechnology Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जैव तकनीक (बायोटेक्नोलोजी) / Biotechnology
Author
Category, ,
Language
Pages 177
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

जैव तकनीक (बायोटेक्नोलोजी) पुस्तक का कुछ अंश :  स्तुत पुस्तक राजकुमार बंसल जी द्वार लिखी गयी है | इस पुस्तक में जैव तकनिकी को सरल और सुगम भाषा में समझाने का प्रयास किया गया है, जिससे की विद्यार्थियों और पाठकों को जैव तकनीक पढ़ने और समझने में सरलता हो क्योंकि जैव तकनीक एक विस्तृत विषय है | जैव तकनीक अब शर्करा से अथेनल के संश्लेषण से प्रारंभ होकर क्लोनिंग द्वारा इन्सुलिन के संश्लेषण तक पहुँच चुकी है, ऐसे में इस विषय को एक संक्षिप्त रूप में व्यक्त करना बंसल जी के लिए कठिन कार्य था……..

Biotechnology PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Stut Pustak Rajkumar bansal jee dvar likhi gayi hai. Is Pustak mein jaiv takanikee ko saral aur sugam bhasha mein samajhane ka prayas kiya gaya hai, jisase ki vidyarthiyon aur pathakon ko jaiv takaneek padhane aur samajhane mein saralta ho kyonki jaiv takaneek ek vistrt vishay hai. Jaiv takaneek ab sharkara se athenal ke sanshleshan se prarambh hokar kloning dvara insulin ke sanshleshan tak pahunch chuki hai, aise mein is vishay ko ek sankshipt roop mein vyakt karana bansal jee ke liye kathin kary tha……..
Short Passage of Biotechnology Hindi PDF Book : The praise book has been written by Rajkumar Bansal ji. In this book, an attempt has been made to explain biotechnology in simple and easy language, so that it is easy for students and readers to read and understand biotechnology because biotechnology is a broad subject. Starting from the synthesis of ethanol from sugar, biotechnology has now reached the synthesis of insulin by cloning, so it was difficult for Bansal ji to express this topic in a concise form……
“अगर एक व्यक्ति को मालूम ही नहीं कि उसे किस बंदरगाह की ओर जाना है, तो हवा की हर दिशा उसे अपने विरुद्ध ही प्रतीत होगी।” ‐ सेनेका
“If a man does not know to which port he is steering, no wind is favourable to him.” ‐ Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment