जनतंत्रवाद : रामायण और महाभारत कालीन : डॉ. श्यामलाल पाण्डेय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Janantantrvada: Ramayan Aur Mahabharat Kalin : by Dr. Shyamlal Pandey Hindi PDF Book

जनतंत्रवाद : रामायण और महाभारत कालीन : डॉ. श्यामलाल पाण्डेय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Janantantrvada: Ramayan Aur Mahabharat Kalin : by Dr. Shyamlal Pandey Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जनतंत्रवाद : रामायण और महाभारत कालीन / Janantantrvada: Ramayan Aur Mahabharat Kalin
Author
Category, ,
Language
Pages 338
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

जनतंत्रवाद : रामायण और महाभारत कालीन का संछिप्त विवरण : लेखक ने इस ग्रन्थ को लिखने में तुलनात्मक और विवेचनात्मक शैली को अपनाया हे | उसमे यह विश्वास है की इस ग्रन्थ में जिन सिद्धांतो की पुष्टि की गयी है उनमे इसी शैली का आश्रय लिखा गया है | भारतीय एवं पश्चात्‌ विद्वानों ने रामायण और महाभारातानार्गत वर्णित हिन्द राज्यों में जनतंत्रवाद के तत्वों की खोज की और अभी तक अत्यंत अल्प प्रयास किया है………

Janantantrvada: Ramayan Aur Mahabharat Kalin PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : lekhak ne is granth ko likhane mein tulanaatmak aur vivechanaatmak shailee ko apanaaya hai usame yah vishvaas hai kee is granth mein jin siddhaanto kee pushti kee gayee hai uname isee shailee ka aashray likha gaya hai  bhaarateey evan pashchaat vidvaanon ne raamaayan aur mahaabhaaraataanaargat varnit hindoo raajyon mein janatantravaad ke tatvon kee khoj kee aur abhee tak atyant alp prayaas kiya hai………….
Short Description of Janantantrvada: Ramayan Aur Mahabharat Kalin PDF Book : The author has adopted comparative and critical style in writing this text. It has the belief that the principles of this text have been written in this book, the shelter of this style has been written. Indian and post-scholars have discovered the elements of democracy in the Hindu states, described in the Ramayana and Mahabharas, and have made very little effort so far……………
“मैं कठिनाईयों से बचने की प्रार्थना नहीं करता हूं, बल्कि मैं उन्हें सहन करने के लिए पर्याप्त सामर्थ्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।” – फिलिप ब्रूक्स
“I do not pray for a lighter load, but for a stronger back.” – Philip Brookes

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment