जाने आलम और महक परी : नुसरत नाहीद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Jane Alam Aur Mahak Pari : by Nusrat Naheed Hindi PDF Book – History (Itihas)

जाने आलम और महक परी : नुसरत नाहीद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - इतिहास | Jane Alam Aur Mahak Pari : by Nusrat Naheed Hindi PDF Book - History (Itihas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जाने आलम और महक परी / Jane Alam Aur Mahak Pari
Author
Category, , ,
Language
Pages 123
Quality Good
Size 3.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : उसकी हर सालगिरह पर जोगी बनाया जाये। ज्योतिथियों की बात मानते हुए वाजिद अली शाह को उनकी छठी के अवसर पर उनकी माँ मलिका किश्वर ने उसको जोगियाना वस्त्र पहनाये और बाद में उनकी हर सालगिरह पर उनको कंसरिया जोड़ा पहनाया जाता था। यह रस्म महल के अन्दर प्रत्येक वर्ष मनायी जाती थी परन्तु इस अवसर पर कोई उत्सव नहीं मनाया जाता था। यह केवल महल के अन्दर की पारिवारिक……..

Pustak Ka Vivaran : Usaki har Salgirah par jogi Banaya jaye. Jyotithiyon kee bat Manate huye vazid alee shah ko unaki Chhathi ke Avasar par unaki man malika kishvar ne usako jogiyana vastra Pahanaye aur bad mein unaki har salagirah par unako kansariya joda pahanaya jata tha. Yah Rasm Mahal ke Andar Pratyek Varsh Manayi jati thee Parantu is avasar par koi utsav nahin manaya jata tha. Yah keval mahal ke andar kee parivarik……..

Description about eBook : Jogi should be made on its anniversary. Believing the astrologers, Wajid Ali Shah was dressed in a jogiana by his mother Malika Kishwar on the occasion of his sixth, and later on his anniversary, he was dressed as a kansariya. This ritual was celebrated every year inside the palace but no festival was celebrated on this occasion. It is only the family inside the palace ………

“असफलता प्रयास बन्द कर देने का परिणाम होती है।” ‐ फ्लोरेंस ग्रिफ्फिथ जायनर
“You never fail until you stop trying.” ‐ Florence Griffith Joyner

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment