जांनिसार अख्तर और उनकी शायरी : प्रकाश पण्डित द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Jannisar Akhtar Aur Unki Shayari : by Prakash Pandit Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

Book Nameजांनिसार अख्तर और उनकी शायरी / Jannisar Akhtar Aur Unki Shayari
Author,
Category, , , , ,
Language
Pages 106
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

जांनिसार अख्तर और उनकी शायरी  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : बीयर का एक बड़ा सा घूंट लेते हुए उसने कहा, “प्रकाश ‘मैं बम्बई से तंग आ चुका हूँ ।
अजीब मशीनी शहर है। दोस्त की दोस्ती पर तो क्या, आदमी दुश्मन की दुश्मनी पर भी भरोसा नहीं कर

सकता। तुम नहीं जानते में वहाँ केसी जिन्दगी गुजार रहा हूँ !” अपनी पत्नी ‘सफ़िया’ ( जो प्रसिद्ध प्रगतिशील
शायर ‘मजाज’ की छोटी बहन और स्वयं एक लेखिका थीं)

Jannisar Akhtar Aur Unki Shayari PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bear ka ek bada sa ghunt lete huye usane kaha, “Prakash main Bombay se tang aa chuka hoon . Ajeeb Machine shahar hai. dost kee dosti par to kya, Aadami dushman kee dushmani par bhee bharosa nahin kar sakata. Tum nahin janate mein vahan kaisi Zindagi gujar raha hoon !” Apani Patni safiya ( Jo prasiddh pragatisheel shayar majaj ki chhoti bahan aur svayan ek lekhika theen) ke……..

 

Short Description of Jannisar Akhtar Aur Unki Shayari Hindi PDF Book : Taking a big sip of beer, he said, “Prakash” I am fed up with Bombay. Strange machine town. What about a friend’s friendship, a man cannot even trust the enemy’s enmity. You don’t know what kind of life I am living there! “Of his wife ‘Safia’ (who was the younger sister of the famous progressive poet ‘Majaj’ and a writer herself)….

 

“मेरे अनुभव के अनुसार, केवल एक ही प्रेरणा होती है और वह है इच्छा।” ‐ जेन स्माईली
“In my experience, there is only one motivation, and that is desire.” ‐ Jane Smiley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment