जनवाणी : आचार्य नरेंद्र देव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Janvani : by Acharya Narendra Dev Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जनवाणी : आचार्य नरेंद्र देव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Janvani : by Acharya Narendra Dev Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जनवाणी / Janvani
Author
Category,
Language
Pages 201
Quality Good
Size 192 MB
Download Status Available

जनवाणी पुस्तक का कुछ अंश : हम अनाथ हो गए आज यह कैसी दुर्दिन आया, हाय, हट गई हम सबके सिर से कुलपति की छाया | जिसने नई वाटिका रोपी, सीचा, की रखवाली, कलि किसलय सब पूछ रहे है कहाँ गया वह माली ? कहाँ आज वह सुधावर्षिणी मीठी मीठी बोली, कहाँ गाय जो दिन राष्ट्र के लिए फिरा ले झोली……

Janvani PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ham anath ho gae aaj yah kaisi durdin aaya, hay, hat gai ham sabke sir se kulpati ki chhaya. Jisne nai vatika ropi, seecha, ki rakhvali, kali kisalay sab puchh rahe hai kahan gaya vah mali ? kahan aaj vah sudhavarshini mithi mithi boli, kahan aay jo din rashtr ke lie phira le jholi…………
Short Passage of Janvani Hindi PDF Book : We have become orphans today, what a bad day it came, Hi, it is the shadow of the Vice Chancellor from our heads. The new Vetika Ropi, Cicha, the guards, Kali Chalisan are all asking where is the gardener? Where is the sweet sweet sweetness today, where the cow who foamed for the nation……………
“हमेशा तर्क करने वाले का दिमाग सिर्फ धार वाले चाकू की तरह है जो प्रयोग करने वाले के हाथ से ही खून निकाल देता है।” – रवीन्द्रनाथ टैगोर
“A mind all logic is like a knife all blade. It makes the hand bleed that uses it.” – Rabindranath Tagore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment