जाति, संस्कृति और समाजवाद : स्वामी विवेकानन्द द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jati, Sanskriti Aur Samajvad : by Swami Vivekanand Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameजाति, संस्कृति और समाजवाद / Jati, Sanskriti Aur Samajvad
Author
Category, ,
Language
Pages 108
Quality Good
Size 2.2 MB

पुस्तक का विवरण : हम पं० द्वारकानाथजी तिवारी, बी. ए., एल-एल. बी., के प्रति अपनी हार्दिक कृतज्ञता प्रकाशित करते हैं, जिन्होंने सफलतापूर्वक अँगरेजी ग्रंथ से प्रस्तुत पुस्तक का अनुवाद किया है। हमारा यह पूर्ण विश्वास है कि आज, जब हम हिन्दू समाज के विभिन्न अंगों के बीच विवाद और कलह का ताण्डव नृत्य देख रहे हैं, स्वामीजी की भारत की जाति एवं संस्कृति सम्बन्धी यह गम्भीर विवेचना बहुत लाभदायक सिद्ध होगी…….

Pustak Ka Vivaran : Ham Pt. Dwarikanath Ji Tivari, B. A., LLB. ke prati apani hardik krtagyata prakashit karate hain, jinhonne saphalatapurvak Angareji granth se prastut pustak ka anuvad kiya hai. Hamara yah poorn vishvas hai ki aaj, jab ham hindu samaj ke vibhinn angon ke beech vivad aur kalah ka tandav nrty dekh rahe hain, Swami ji ki bharat ki jati evan sanskrti sambandhi yah gambheer vivechana bahut labhadayak siddh hogi…….

Description about eBook : We are Pt. Dwarkanathji Tiwari, B. A., L-L. B., who has successfully translated the presented book from the English text. We firmly believe that today, when we are witnessing the Tandava dance of discord and discord between different parts of Hindu society, Swamiji’s serious discussion of India’s caste and culture will prove to be very beneficial………

“सफलता वाकई किस्मत और मेहनत का संगम है।” ‐ डसटिन मोस्कोविट्ज
“Success is very much the intersection of luck and hard work.” ‐ Dustin Moskovitz

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment