जीवन और मृत्यु : आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Jeevan Aur Mrityu : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book – Story (Kahani)

जीवन और मृत्यु : आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Jeevan Aur Mrityu : by Acharya Chatursen Shastri Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जीवन और मृत्यु / Jeevan Aur Mrityu
Author
Category,
Language
Pages 349
Quality Good
Size 12.17 MB
Download Status Available

जीवन और मृत्यु पुस्तक का कुछ अंश : महाराज जनक बड़े भारी ब्रह्मवेत्ता थे और बड़े-बड़े ऋषि-मुनि उनके सामने ब्रह्मा सम्बन्धी उलझने सुलझाने को आते थे | विद्वन्मंडली में वे विदेह जनक के नाम से प्रसिद्ध थे | एक बार मुनि अष्टावक उनके यहाँ आये | वह बड़े अक्खड़ मिजाज के आदमी थे | आते ही राजा से प्रश्न कर बैठे- “तुम जो अपने को विदेह कहते हो, यह तुम्हारा झूठा अभिमान है…….

Jeevan Aur Mrityu PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Maharaj Janak bade bhari brahmavetta the aur bade-bade rshi-muni unke samne brahma sambandhi uljhane suljhane ko aate the. Vidvanmandali mein ve videh janak ke naam se prasiddh the. Ek baar Muni Ashtavak unke yahan aaye. Vah bade akkhad mijaj ke aadmi the. Aate hi raja se prashn kar baithe- “tum jo apne ko videh kahate ho, yah tumhara jhutha abhiman hai…………
Short Passage of Jeevan Aur Mrityu Hindi PDF Book : Maharaj Janak was a very big Brahmavetta and the great sage-monkey used to come before him to solve Brahma’s conflicts. In the scholarship he was famous as Vivek Janak. Once Munni, Ashtak came here. He was a man of great arrogance. When he came, the king asked, “You who say to yourself Videha, this is your false pride…………..
“यदि आप प्रतिभा के साथ उत्कृष्टता प्राप्त नहीं कर सकते हैं, तो प्रयास से विजयी बनें।” ‐ डेव वीनबाउम
“If you can’t excel with talent, triumph with effort.” ‐ Dave Weinbaum

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment