जीवन और मृत्यु : जे. कृष्णमूर्ति द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – प्रेरक | Jeevan Aur Mrityu : by J. Krishnamurty Hindi PDF Book – Motivational (Prerak)

Book Nameजीवन और मृत्यु / Jeevan Aur Mrityu
Author
Category, , ,
Language
Pages 129
Quality Good
Size 1.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : “मृत्यु का घटित होना अपने आप में कितनी अद्भुत बात है – बिल्कुल जीवन की ही तरह अदुभुत। जीवन से कुछ भी बाहर नहीं है। दुख, पीड़ा, यंत्रणा, आनंद, बेतुकी धारणाएं,स्वामित्वभाव, डाह, प्रेम, अकेलेपन के संताप का दर्द – सभी कुछ तो जीवन में समाया है। और मृत्यु को समझने के लिये हमें जीवन को इसकी समग्रता में समझना होगा……

Pustak Ka Vivaran : Mrityu ka Ghatit hona apne aap mein kitni adbhut bat hai – Bilkul jeevan ki hi tarah adbhut. Jeevan se kuchh bhi bahar nahin hai. Dukh, Peeda, Yantrana, Aanand, Betuki Dharanayen, svamitvabhav, dah, Prem, Akelepan ke santap ka dard – sabhi kuchh to jeevan mein samaya hai. Aur Mrityu ko Samajhane ke liye hamen jeevan ko iski Samagrata mein Samajhana hoga………

Description about eBook : What a wonderful thing that death itself is – just as wonderful as life itself. Nothing is out of life. Suffering, pain, agony, joy, absurd notions, possessiveness, jealousy, love, the pain of the anguish of loneliness – everything is in life. And to understand death we have to understand life in its totality……….

“आप रचनात्मकता को प्रयोग कर समाप्त नहीं कर सकते। जितना आप प्रयोग में लेते हैं, उतनी ही बढ़ती है। ” – माया एंजोलो
“You can’t use up creativity. The more you use, the more you have.” – Maya Angelou

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment