जीवन की शुरुआत कैसे हुई : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jeevan Ki Shuruat Kaise Hui : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जीवन की शुरुआत कैसे हुई : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Jeevan Ki Shuruat Kaise Hui : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जीवन की शुरुआत कैसे हुई / Jeevan Ki Shuruat Kaise Hui
Author
Category, ,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ये जानवर आज के मेढकों की तरह जमीन पर और पानी दोनों स्थानों पर रह सकते थे। उन्हें उभयचर (एम्फीबियन) कहा जाता था। उभयचर अपने अंडे पानी में देते हैं। उनमे से ज्यादातर जमीन पर रहते हैं, लेकिन कुछ नदियों और समुद्र में भी रहते हैं। यहाँ कुछ प्रारंभिक उभयचर सरीसृप (रेपटाइल,, हैं। पहले सरीसृप…….

Pustak Ka Vivaran : Ye Janvar Aaj ke Medhakon ki tarah jameen par aur Pani donon sthanon par rah sakte the. Unhen Ubhaychar (Amphibian) kaha jata tha. Ubhaychar apne ande Pani mein dete hain. Uname se jyadatar jameen par rahate hain, lekin kuchh Nadiyon aur samudra mein bhi rahate hain. Yahan kuchh prarambhik ubhaychar Sarisrp (Reptiles) hain. Pahale Sarisrap……..

Description about eBook : These animals could live both on land and in water, like today’s frogs. They were called amphibians (amphibians). Amphibians lay their eggs in water. Most of them live on land, but some also live in rivers and seas. Here are some early amphibian reptiles. First reptile………

“चाहे यह आपके लिए सबसे अच्छा समय हो, अथवा सबसे खराब समय हो, केवल और केवल समय ही हमारे पास होता है” आर्ट बचवाल्ड
“Whether it’s the best of times or the worst of times, it’s the only time we’ve got.” Art Buchwald

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment