जीवन जीने की कला : श्री राम शर्मा आचार्या द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तकी | Jevan Jeene Ki Kala : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book

जीवन जीने की कला : श्री राम शर्मा आचार्या द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तकी | Jevan Jeene Ki Kala : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जीवन जीने की कला / Jevan Jeene KI Kala
Author
Category,
Language
Pages 193
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

जीवन जीने की कला का संछिप्त विवरण : बाइबिल कहती है ” मनुष्य ईश्वर की महानतम कृति है ‘ किन्तु इसके विपरीत हम देखते है की सामान्य से असामान्य बनना तो दूर, व्यक्ति साथारण स्तर का भी नहीं रह पाता है | इसका मूल कारण है अपनी सामर्थ्य का बोध न होना | हनुमान को यदि अपनी सामर्थ्य का बोध रहा होता तो जामवँत के उपदेश की उन्हे आवशयकता न पड़ती………

Jevan Jeene KI Kala PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : bible kahatee hai ” manushy eeshvar kee mahaanatam krti hai kintu isake vipareet ham dekhate hai kee saamaany se asaamaany banana to door, vyakti saadhaaran star ka bhee nahin rah paata hai. isaka mool kaaran hai apanee saamarthy ka bodh na hona. hanumaan ko yadi apanee saamarthy ka bodh raha hota to jaamavant ke upadesh kee unhe aavashayakata na padatee………….
Short Description of Jevan Jeene KI Kala PDF Book : The Bible says, “Man is the greatest creation of God,” but on the contrary we see that being normal becomes abnormal, even a person can not live at the level of normal level. The root cause is not the perception of its power. If there was a sense of power, then he would not need Jammant’s teachings……………
“हमारा कर्तव्य है कि हम अपने शरीर को स्वस्थ रखें। अन्यथा हम अपने मन को सक्षम और शुद्ध नहीं रख पाएंगे।” ‐ बुद्ध
“To keep the body in good health is a duty… otherwise we shall not be able to keep our mind strong and clear.” ‐ Buddha

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment