झारखंड के वैकल्पिक विकास और नवनिर्माण की दिशा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jharkhand Ke Vaikalpik Vikas Aur Navnirman Ki Disha : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameझारखंड के वैकल्पिक विकास और नवनिर्माण की दिशा / Jharkhand Ke Vaikalpik Vikas Aur Navnirman Ki Disha
Category, , ,
Language
Pages 7
Quality Good
Size 535 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अंग्रेजों के जमाने से झारखंड क्षेत्र में किसी भी सरकार की प्राथमिकता यहां की जनता के हित की नहीं रही है। अंग्रेजी साम्राज्यवाद और देशी-विदेशी पूंजीपतियों के हित में यहां नीतियां और कार्यक्रम बनाये जाते रहे हैं। अंग्रेजों ने जो खनिजों और जंगलों को केंद्र की संपत्ति करार दिया, वह नीति आज भी कायम है| सरकार पूंजीपतियों को…..

Pustak Ka Vivaran : Angrejon ke jamane se jharkhand kshetra mein kisi bhi sarkar ki prathamikata yahan ki janata ke hit ki nahin rahi hai. Angreji samrajyavad aur deshi-videshi punjipatiyon ke hit mein yahan neetiyan aur karyakram banaye jate rahe hain. Angrejon ne jo khanijon aur jangalon ko kendra ki Sampatti karar diya, vah neeti Aaj bhee kayam hai sarkar poonjipatiyon ko…….

Description about eBook : Since the British era, the priority of any government in Jharkhand region has not been in the interest of the people here. Policies and programs have been made here in the interests of English imperialism and the indigenous and foreign capitalists. The policy that the British declared minerals and forests as the property of the center, is still in force today. Government to the capitalists …….

“विश्व की सर्वोत्तम और सुंदरतम चीजें न देखी जा सकती हैं और न ही छुई जा सकती हैं, वे तो केवल दिल से महसूस की जा सकती हैं।” हेलेन कैलर
“The best and most beautiful things in the world cannot be seen or even touched they must be felt from the heart.” Helen Keller

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment