कबीर और परशुराम देव के साहित्य का तुलनात्मक अध्ययन : श्रीमती विजय नेत्री साहा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Kabir Aur Parashuram Dev Ke Sahitya Ka Tulanatmak Adhyayan : by Shrimati Vijay Netri Saha Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

कबीर और परशुराम देव के साहित्य का तुलनात्मक अध्ययन : श्रीमती विजय नेत्री साहा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kabir Aur Parashuram Dev Ke Sahitya Ka Tulanatmak Adhyayan : by Shrimati Vijay Netri Saha Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कबीर और परशुराम देव के साहित्य का तुलनात्मक अध्ययन / Kabir Aur Parashuram Dev Ke Sahitya Ka Tulanatmak Adhyayan
Author
Category, , , ,
Pages 585
Quality Good
Size 1.2 MB
Download Status Available

कबीर और परशुराम देव के साहित्य का तुलनात्मक अध्ययन का संछिप्त विवरण : कबीर और परशुराम देव के साहित्य का तुलनात्मक अध्यययन नामक प्रस्तुत शोध ग्रन्थ में सात परिच्छेद हैं। प्रथम परिच्छेद में उक्त कवियों के जीवन वृत्त एवं साहित्य की तुलना की गई है। दोनों कवी सम सामयिक सिद्ध होते हैं। कवि हृदय निर्भीक आत्म विश्वासी, व्यापक दृष्टिकोण रखने वाले क्रन्तिकारी……

Kabir Aur Parashuram Dev Ke Sahitya Ka Tulanatmak Adhyayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Kabir aur Parashuram dev ke sahity ka Tulanatmak adhyayayan namak prastut shodh granth mein sat parichchhed hain. Pratham parichchhed mein ukt kaviyon ke jeevan vrtt evan sahity ki tulana ki gayi hai. donon kavi sam samayik siddh hote hain. Kavi hrday nirbheek aatm vishvasi, vyapak drshtikon rakhane vale krantikari samaj sudharak ke roop mein udit huye………
Short Description of Kabir Aur Parashuram Dev Ke Sahitya Ka Tulanatmak Adhyayan PDF Book : There are seven passages in the research book presented comparative study of literature of Kabir and Parashurama Dev. In the first passage, the biographies and literature of the said poets have been compared. Both poets prove to be timely. The poet grew up as a fearless self-believer, a revolutionary social reformer with a broad outlook ……
“खुशी, दुख से कहीं अधिक पवित्र होती है; चूंकि खुशी रोटी है और दुख दवा है।” ‐ बीचर
“Joy is more divine than sorrow; for joy is bread, and sorrow is medicine.” ‐ Beecher

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment