कल भी सूरज नहीं चढेगा- सुरजीत सिंह मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Kal Bhi Suraj Nahi Chadhega- Surjit Singh Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कल भी सूरज नहीं चढेगा / Kal Bhi Suraj Nahi Chadhega
Author
Category
Language
Pages 128
Quality Good
Size 6.38 MB
Download Status Available

कल भी सूरज नहीं चढेगा पुस्तक का कुछ अंश : डायर को विश्वास है कि वह कैंप में अकेला है । उसे तनिक भी अहसास हो कि कैंप में कोई और भी है तो वह इस तरह की हरकतें नहीं करता | वह अपनी हरकतें करता जा रहा है । उसकी घबराहट, उसकी बेचैनी स्पष्ट दिखाई पड़ रही है । मैं उसके सामने बैठा सभी कुछ देख रहा हूँ | देख-देखकर हैरान हो रहा हूँ। न जाने डायर को आज क्या हो गया………

Kal Bhi Suraj Nahi Chadhega PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Dayar ko vishvas hai ki vah kaimp mein akela hai. Use tanik bhi ahasas ho ki camp mein koi aur bhi hai to vah is tarah ki harakaten nahin karata. Vah apni harkaten karata ja raha hai. Uski ghabarahat, usaki bechaini spasht dikhayi pad rahi hai. Main uske samane baitha sabhi kuchh dekh raha hoon. Dekh-dekhakar hairan ho raha hoon. na jaane dayar ko aaj kya ho gaya………
Short Passage of Kal Bhi Suraj Nahi Chadhega Hindi PDF Book : Dyer believes he is alone in the camp. Even if he realizes that there is someone else in the camp, then he does not act like this. He is doing his actions. His nervousness, his restlessness is clearly visible. I am watching everything sitting in front of him. I am surprised to see. Don’t know what happened to Dyer today………
“तूफ़ानों से पेड़ों की जड़ें और गहरी व मज़बूत होती है।” – क्लॉड मैक्डॉनल्ड
“Storms make trees take deeper roots.” – Claude McDonald

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment