कला और बूढ़ा चाँद : श्री सुमित्रानंदन पन्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Kala Aur Budha Chand : by Shri Sumitranandan Pant Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameकला और बूढ़ा चाँद / Kala Aur Budha Chand
Author
Category, , ,
Language
Pages 205
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

कला और बूढ़ा चाँद  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  मन ने बहुत काट-छंट की, कला शिल्प के हाथो से भाव बोध के स्पर्शो से सहस्त्रो नये वसंत संवारे ! अभी असख्य शरदों को अपने अंग पावक में नहला कर रूप ग्रहण करना है ! बुढा चाँद कला
की गोरी बांहों में क्षण भर सोया है ! यह अमृत कला है सोभा असि, वह बुढ़ा प्रहरी प्रेम की ढाल ! हाथी दांत
की स्वप्नों की मीनार सुलभ नहीं.

Kala Aur Budha Chand PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : bahut kaat-chhant ki, kala shilp ke hatho se bhav bodh ke sparsho se sahastro naye vasant sanvare ! abhi asakhy sharadon ko apne ang pavak mein nahla kar rup grahan karna hai ! budha chand kala ki gori banhon mein kshan bhar soya hai ! yah amrt kala hai sobha asi, vah budha prahri prem ki dhal ! hathi dant ki svapnon ki minar sulabh nahin…………

Short Description of Kala Aur Budha Chand Hindi PDF Book : The mind has bitten a lot, with the help of art craft, the new Vasant Samavara with the touch of the senses! Right now, the untimely Sharadas have to take shape in their limbs and take it in their form! The old moon has slept in the white arms of art for a moment! This ambrosial art is Sobha, that old woman’s shield of love! The ivory tower’s dream tower is not accessible………..

 

“आपकी समस्या वास्तविकता में कभी भी आपकी समस्या नहीं होती है, आपकी समस्या के प्रति आपकी प्रतिक्रिया आपकी समस्या होती है।” ‐ ब्राइन किन्से
“Your problem is never really your problem; your reaction to your problem is your problem.” ‐ Brian Kinsey

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment