कला का विवेचन : पं० मोहनलाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Kala Ka Vivechan : by Pt. Mohanlal Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

कला का विवेचन : पं० मोहनलाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kala Ka Vivechan : by Pt. Mohanlal Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कला का विवेचन / Kala Ka Vivechan
Author
Category, ,
Language
Pages 188
Quality Good
Size 2.5 MB
Download Status Available
कला का विवेचन पुस्तक का कुछ अंश : उत्पत्ति और विकास- मनुष्य चेतना सम्पन्न प्राणी है | वह अपने धरतुर्दिक की स्ष्टि का अनुभव प्राप्त करता है | वह उसे देखता-सुनता है और और उसकी छाप उस पर पड़ती है, वासता-रूप से उसमे भिन्न-भिन्न वस्तुओं के छाया-चित्र अंकित होते रहते है और तदूनुफुल ही उसके संस्कार बनते रहते……..

 

Kala Ka Vivechan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Utpatti aur vikas- manushy chetna sampann prani hai. Vah apne dhaturdik ki srashti ka anubhav prapt karta hai. Vah use dekhta-sunta hai aur aur uski chhap us par padti hai, vasata-rup se usme bhinn-bhinn vastuon ke chhaya-chitr ankit hote rahte hai aur tadnuphul hi uske sanskar bante rahte hai…………..
Short Passage of Kala Ka Vivechan Hindi PDF Book : Origin and development – Human beings are endowed souls. He receives the feeling of the heartfelt gratification. He sees it and sees it, and its imprint is on it; Vastically, the shadow images of different objects are kept in it, and accordingly its rites continue to be formed…………….
“अवसर सूर्योदय की तरह होते हैं। यदि आप ज्यादा देर तक प्रतीक्षा करते हैं तो आप उन्हें गंवा बैठते हैं।” विलियम आर्थर वार्ड
“Opportunities are like sunrises. If you wait too long, you miss them.” William Arthur Ward

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment