कन्या पक्ष- हरिवंश रॉय मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Kanya Paksh by Harivansh Roy Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कन्या पक्ष / Kanya Paksh
Author
Category
Language
Pages 172
Quality Good
Size 6.7 MB
Download Status Available

कन्या प पुस्तक का कुछ अंश : कन्यापक्ष”’ उपन्यास नहीं है। उपन्यास की जो परिभाषा प्रचलित है, उसके घेरे में यह नहीं आता। लेकिन छोटी कहानियों की किताब भी यह नहीं है। क्यों नहीं है, यह समझाकर बताना जरूरी है। सब कुछ मिलाकर जो समग्र और अखंड प्रभाव उपन्यास का अन्यतम लक्षण है, वह इस ग्रन्थ में है । इसके अलावा एक और कारण भी है। जीवन में, विभिन्न………..

Kanya Paksh PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Kanyapaksh” upanyas nahin hai. Upanyas ki jo Paribhasha prachalit hai, uske ghere mein yah nahin aata. Lekin chhoti kahaniyon ki kitab bhi yah nahin hai. Kyon nahin hai, yah samajhakar batana jaruri hai. Sab kuchh milkar jo samagr aur akhand prabhav upanyas ka anyatam lakshan hai, vah is granth mein hai. Isake alava ek aur karan bhee hai. Jeevan mein, vibhinn………..
Short Passage of Kanya Paksh Hindi PDF Book : ‘Kanyapaksha’ is not a novel. It does not come under the prevailing definition of novel. But this is not a book of short stories either. It is necessary to explain why it is not there. All in all, the overall and unbroken effect which is the best feature of the novel is present in this book. Apart from this, there is another reason as well. In life, various………
“धन कमाने की आस में निकलना जीवन की सबसे भारी गलती है। वही करें जिसमें आपकी रुचि हो, और यदि आप उसमें निपुण हैं, धन अपने आप आएगा।” ‐ ग्रीअर गार्सन
“Starting out to make money is the greatest mistake in life. Do what you feel you have a flair for doing, and if you are good enough at it, the money will come.” ‐ Greer Garson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment