कर्मवाद और जन्मान्तर : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Karmvad Aur Janmantar : Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

कर्मवाद और जन्मान्तर : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Karmvad Aur Janmantar : Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कर्मवाद और जन्मान्तर / Karmvad Aur Janmanta
Author
Category
Language
Pages 390
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

कर्मवाद और जन्मान्तर का संछिप्त विवरण : प्रतिदिन जितने जीव उत्पन्न हुआ करते हैं उनमें से प्रत्येक के ईश्वर नए सिरे से बनाता है। मजा यह है कि ईसाई लोग आत्मा के अजर अमर होने का विश्वास करते हैं। अर्थात उनकी राय में आत्मा का जन्म तो है किन्तु मृत्यु नहीं है; उत्पति तो है कितु विनाश नहीं है; आदि तो है कितु अंत नहीं है। इस मत के मानने वाले लोग जगत की…….

 

Karmvad Aur Janmanta PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Pratidin Jitane Jeev utpann huya karate hain unamen se pratyek ke Ishvar naye sire se banata hai. Maja yah hai ki Isai log Aatma ke Ajar amar hone ka vishvas karate hain. Arthat unki ray mein Aatma ka janm to hai kintu mrtyu nahin hai; utpati to hai kintu vinash nahin hai; aadi to hai kintu ant nahin hai. Is Mat ke manane vale log jagat ki………
Short Description of Karmvad Aur Janmanta PDF Book : Each of the creatures that are born every day, God creates anew. The fun is that Christians believe in the immortal being of the soul. That is, in his opinion there is birth of the soul but there is no death; There is creation but there is no destruction; There is a beginning but there is no end. The people who believe in this view belong to the world……..
“याद रखें कि भविष्य एक बार में एक दिन करके आता है।” ‐ डीन ऐचिसन
“Always remember that the future comes one day at a time.” ‐ Dean Acheson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment