कर्मयोग और कर्म कौशल : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Karmyog Or Karm Kousahal : by Shriram Sharma Acharya Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

कर्मयोग और कर्म कौशल : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Karmyog Or Karm Kousahal : by Shriram Sharma Acharya Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कर्मयोग और कर्म कौशल / Karmyog Or Karm Kousahal
Author
Category, ,
Language
Pages 177
Quality Good
Size 5.5 MB
Download Status Available
कर्मयोग और कर्म कौशल पुस्तक का कुछ अंश : कर्म ही मानव जीवन का मेरुदंड है | यदि कर्म नहीं रहा होता तो यह मानव योनि लुंज-पुंग निरर्थक-सी बनकर रह गई होती | इसे सुर दुर्लभ जीवन की संज्ञा नहीं मिली होती | कर्म ही वह सौरभ है जो इस विश्व को नंदन कानन बनाए हुए है | सर्वव्यापी वायु की तरह कर्म मनुष्य जीवन के प्रत्येक क्षण में समाया हुआ है………
Karmyog Or Karm Kousahal PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Karm hi manav jeevan ka merudand hai. Yadi karm nahin raha hota to yah maanav yoni lunj-pung nirarthak-sei bankar rah gai hoti. Ise sur durlabh jeevan ki sangya nahin mili hoti. Karm hi vah saurabh hai jo is vishv ko nandan kanan banae hue hai. Sarvavyapi vayu ki tarah karm manushy jeevan ke pratyek kshan mein samaya hua hai…………
Short Passage of Karmyog Or Karm Kousahal Hindi PDF Book : Karma is the backbone of human life. If the action had not been done, then this human vaginal ligament would have remained absurd. It did not get the name of rare life. Karma is the only one who has made this world a Nandan Kanan. Karma like omnipresent air is contained in every moment of life…………..
“अपने विचार बदलें और आप अपनी दुनिया बदल सकते हैं।” ‐ नोर्मन विंसेंट पील
“Change your thoughts and you change your world.” ‐ Norman Vincent Peale

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment