काठ का उल्लू और कबूतर : केशव चन्द्र वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kath Ka Ulloo Aur Kabutar : by Keshav Chandra Verma Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

काठ का उल्लू और कबूतर : केशव चन्द्र वर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Kath Ka Ulloo Aur Kabutar : by Keshav Chandra Verma Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काठ का उल्लू और कबूतर / Kath Ka Ulloo Aur Kabutar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 168
Quality Good
Size 25 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सड़क पर रामलाल हलवाई को दुकान के सामने पड़ी हुई बैच अब एकदम खाली हो गई थी। अपनी जलती हुई भट्टी के कोयले की आँच का उपयोग करने के लिए वह अब उसी के किनारे आकर बैठ गया था | हाथ पाँव सिंक रहे थे फिर भी जाड़े की रात तो हर तरह से जाड़े की ही रात थी ! रामलाल हलवाई आज बहुत खुश था | तीन चार दिन की बनी हुई मिठाइयाँ रोज़ ताज़ा बता बता कर कहीं आज….

Pustak Ka Vivaran : Sadak par Ramlal Halavai ko Dukan ke Samane Padi huyi baich ab Ekadam khali ho gayi thee. Apani jalati huyi bhatti ke koyale ki Aanch ka Upayog karane ke liye vah ab usi ke kinare Aakar baith gaya tha. Hath Panv sink rahe the phir bhi jade ki rat to har tarah se jade ki hi Rat thee ! Ramlal halavai Aaj bahut khush th. Teen char din ki Bani huyi Miithaiyan Roz Taza bata bata kar kahin Aaj………

Description about eBook : The batch lying in front of the shop to Ramlal Halwai on the road was now completely empty. He now came and sat on the banks of his burning furnace to use the flame of coal. Hands and feet were sinking, yet winter night was winter night in every way! Ramlal confectioner was very happy today. Three to four-day-old sweets are fresh and told today ……

“हर कृति अपने कलाकार की आत्मकथा है। मोती सीप की आत्मकथा ही है।” ‐ फ़ेडरिको फेलिनी
“All art is autobiographical. The pearl is the oyster’s autobiography.” ‐ Federico Fellini

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment