कठोपनिषद् के रहस्य : स्वामी कृष्णानंद सरस्वती द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Kathopanishad ke Rahasya : by Swami Krishnanand Sarswati Hindi PDF Book

Book Nameकठोपनिषद् के रहस्य / Kathopanishad ke Rahasya
Category, ,
Pages 151
Quality Good
Size 4.6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जैनसमाज ‘पूज्यपाद’ नाम के एक सुप्रसिध्द आचार्य बिक्रम की छठी शताब्दी में हो गया है, जिनका पहला अथवा दीक्षानाम ‘देवनंदी’ था और जो बाद को ‘जिनेंद्रबुध्दी’ नाम से भी लोक में प्रसिध्दी को प्राप्त हुए हैं | आपके इन नामों का परिचय अनेक शिलालेखों तथा ग्रंथों आदि पर से भले प्रकार उपलब्ध होता है…………….

Pustak Ka Vivaran : Jainsamaj poojyapad nam ke ek suprasidhd achary vikram ki chhathi shatabdi mein ho gaya hai, jinaka pahala athava dikshanam devanandi tha aur jo bad ko jinendrabudhdi nam se bhi lok mein prasidhdi ko prapt hue hain Apake in namon ka parichay anek shilalekhon tatha granthon adi par se bhale prakar upalabdh hota hai…………..

Description about eBook : Jainsamaj, a well-known Acharya named ‘Pujyadpad’, has become Vikrama in the sixth century, whose first or last name is ‘Devanandi’ and later also ‘Janendrabuddhi’ has gained fame in the public. Your names are well known on many inscriptions and texts etc……………

“दुनिया की महत्त्वपूर्ण वस्तुओं में से ज्यादातर उन व्यक्तियों द्वारा प्राप्त की गई हैं जिन्होंने बिलकुल आशा नहीं होते हुए भी प्रयास करना नहीं बंद किया।” – डेल कार्नेगी
“Most of the important things in the world have been accomplished by people who have kept on trying when there seemed to be no hope at all” – Dale Carnegie

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment