कौलावालिनिर्णय : मज्जनानन्द परमहंस द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Kaulavalinirnay : by Majjnanand Paramhans Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameकौलावालिनिर्णय / Kaulavalinirnay
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 754
Quality Good
Size 285 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

कौलावालिनिर्णय का संछिप्त विवरण : अब इनकी स्थापना की विशि बतलाते है। प्रथम कुम्भ के दक्षिण भाग में त्रिकोण व्रत-भरगुहात्मक मंडल बनावे। फिर पूर्ववत प्रोक्षणादि कर आधार रखे। उस पर बाह्ामंडल की पूजा कर पात्र को धोकर आधार पर रखे। पात्र में सूर्यमण्डल का पूजन कर उसे कलशमृत से पूर्ण करे। फिर द्रव्य में सूर्यमण्डल का पूजन कर उसे ……..

Kaulavalinirnay PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ab Inakee sthapana kee vishi batalate hai. Pratham kumbh ke dakshin bhag mein trikon vrat-bharaguhatmak mandal banave. Phir poorvavat prokshanadi kar aadhar rakhe. Us par bahyamandal kee pooja kar patr ko dhokar aadhar par rakhe. Patra mein sooryamandal ka poojan kar use kalashamrt se poorn kare. phir dravy mein sooryamandal ka poojan kar use…………
Short Description of Kaulavalinirnay PDF Book : Now, they tell about the details of their establishment. Triangles in the south of the first Kumbh should be made of vowel-filled circles. Then lay the ground after retrospectively. After worshiping the universe on it, wash the character and place it on the base. Worship Suryamandal in the vessel and complete it with Kalashmrit. Then worshiping the solar system in the matter………………
“आप जीवन के मंद दौर से उबर पाने की क्षमता की एक निश्चित राशि के साथ पैदा नहीं हुए हैं। यह तो एक मांसपेशी के समान है, आप इसे बढ़ा सकते हैं, और फिर ज़रूरत होने पर इससे काम ले सकते हैं।” शैरिल सैंडबर्ग
“You are not born with a fixed amount of resilience. It’s a muscle, you can build it up, and then draw on it when you need it.” Sheryl Sandberg

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment