हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

कौमी एकता की तलाश और अन्य रचनाएं / Kaumi Ekta Ki Talash Aur Anya Rachanayen

कौमी एकता की तलाश और अन्य रचनाएं : शिवरतन थानवी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kaumi Ekta Ki Talash Aur Anya Rachanayen : by Shivratan Thanavi Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कौमी एकता की तलाश और अन्य रचनाएं / Kaumi Ekta Ki Talash Aur Anya Rachanayen
Author
Category, ,
Language
Pages 194
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

कौमी एकता की तलाश और अन्य रचनाएं का संछिप्त विवरण : संवेदना के इस गहराते संकट और उसकी तरह देने वाली शक्तियों को रेखांकित करते हुए हम शिक्षकों को सोचना होगा, कि मानवीय संवेदना का वाहक शब्द अपनी सशक्त भूमिका से क्‍यों मुकर रहा है ? क्योकि सदियों से संचित ज्ञान को भावी पीढियो को सौंपने की महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी अपने सिर पर ओढ़ने वाला शिक्षक, मात्र शब्द के अर्थ का सम्प्रेपक ही नहीं, उसके पीछे…….

Kaumi Ekta Ki Talash Aur Anya Rachanayen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sanvedana ke is Gaharate sankat aur usaki tarah dene vali Shaktiyon ko rekhankit karate huye ham shikshakon ko sochana hoga, ki manaviya sanvedana ka vahak shabd apani sashakt bhoomika se k‍yon mukar raha hai ? Kyoki sadiyon se sanchit Gyan ko bhavi Peedhiyo ko saumpane ki Mahattvapurn Jimmedari apane sir par odhane vala shikshak, matr shabd ke arth ka samprepak hi nahin, usake peechhe……..
Short Description of Kaumi Ekta Ki Talash Aur Anya Rachanayen PDF Book : Underlining this deepening crisis of sensation and its giving powers, we teachers have to think, why is the word carrier of human compassion retracting from its powerful role? Because the teacher who bears the important responsibility of handing over the knowledge accumulated over the centuries to future generations, not only communicates the meaning of the word, but behind it …….
“कोई काम शुरू करने से पहले, स्वयं से तीन प्रश्न पूछिए – मैं यह क्यों कर रहा हूं, इसके परिणाम क्या हो सकते हैं और क्या मैं सफल हो पाऊंगा। जब गहराई से सोचने पर इन प्रश्नों के संतोषजनक उत्तर मिल जायें, तब आगे बढ़ें।” चाणक्य
“Before you start some work, always ask yourself three questions – Why am I doing it, What the results might be and Will I be successful. Only when you think deeply and find satisfactory answers to these questions, go ahead.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment