कौन कहता है वृक्षों में जीव नहीं है : यशपाल आर्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kaun Kahata Hai Vrikshon Mein Jeev Nahin Hai : by Yashpal Arya Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameकौन कहता है वृक्षों में जीव नहीं है / Kaun Kahata Hai Vrikshon Mein Jeev Nahin Hai
Author
Category,
Language
Pages 179
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रिय यशपाल आर्य एवं प्रिय राज आर्य द्वारा लिखित पुस्तक “कौन कहता है वृक्षों में जीव नहीं है?” का विहंगावलोकन किया। इससे यह बात तो प्रमाणित है कि इन दोनों किशोर बच्चों ने अनेक ग्रन्थों का स्वाध्याय किया है; मेरा इन दोनों बच्चों, विशेषकर प्रिय यशपाल आर्य से दूरभाष पिछले दीर्घकाल से सम्पर्क रहा है………

Pustak Ka Vivaran : Priy Yashpal Aary evan priy Raj Aary dvara likhit pustak “Kaun kahata hai vrkshon mein jeev nahin hai?” ka vihangavalokan kiya. Isase yah bat to pramanit hai ki in donon kishore bachchon ne anek granthon ka svadhyaay kiya hai; mera in donon bachchon, visheshakar priy yashapal aary se doorabhash pichhale deerghakal se sampark raha hai…….

Description about eBook : Book written by Dear Yashpal Arya and Priya Raj Arya “Who says there are no creatures in trees?” Overview of. From this it is proved that these two teenage children have self-studyed many books; I have been in contact with these two children, especially dear Yashpal Arya, over the phone for a long time………

“इंटरनेट पर जो आपको मिल रहा हो वह अगर मुफ्त का है, तो ऐसे में आप ग्राहक नहीं, बल्कि आप खुद एक उत्पाद हैं।” ‐ जोनाथन जिट्ट्रेन
“If what you are getting online is for free, you are not the customer, you are the product.” ‐ Jonathan Zittrain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment