काया चिकित्सा भाग द्वितीय- आचार्य विद्याधर शुक्ल हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Kaya Chikitsa Second Part- Acharya Vidhyadhar Shukla Hindi Book Free Download

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काया चिकित्सा भाग द्वितीय / Kaya Chikitsa Second Part
Category,
Language
Pages 982
Quality Good
Size 54 MB
Download Status Available

काया चिकित्सा भाग द्वितीय पुस्तक का कुछ अंश : प्रतिकर्म विज्ञान का प्रारम्भ रोगविज्ञान या रोगविनिश्चय से होता है। चिकित्सक जिस व्याधि का प्रतिकार करना चाहता है, जब तक भली अकार उस व्याधि की जानकारी प्राप्त न कर लेगा, चिकित्सा में सफलता नहीं प्राप्त कर सकता । इसी दृष्टि से महर्षि पुन आत्रेय ने महर्षि अग्निवेश को आरम्भ से रोग की सम्यक्‌ परीक्षा करने के बाद ही औषध एवं अतिकर्म का विनियोजन करना चाहिए” इस आशय का उपदेश दिया । रोग का ज्ञान………

Kaya Chikitsa Second Part PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Pratikarm vigyan ka prarambh Rogvigyan ya Rogvinishchay se hota hai. Chikitsak jis vyadhi ka pratikar karna chahata hai, Jab tak bhali akar us vyadhi ki jankari prapt na kar lega, chikitsa mein saphalata nahin prapt kar sakta. Isi drshti se maharshi pun aatrey ne maharshi agnivesh ko aarambh se rog ki samyak‌ pariksha karne ke bad hi aushadh evan atikarm ka viniyojan karna chahiye” Is aashay ka updesh diya. Rog ka gyan………
Short Passage of Kaya Chikitsa Second Part Hindi PDF Book : The science of counteraction begins with pathology or diagnosis. The disease which the doctor wants to counteract, until he does not get the information about that disease, he cannot achieve success in the treatment. From this point of view, Maharishi Pun Atreya preached to Maharishi Agnivesh that one should use medicine and excesses only after proper examination of the disease from the beginning. Knowledge of disease……..
“लोग अक्सर कहते हैं कि मैं भाग्यशाली हूं। लेकिन भाग्य केवल उचित समय पर अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका मिलने तक ही महत्त्व रखता है। उसके बाद आपको प्रतिभा और प्रतिभा को काम में ला पाने की योग्यता की आवश्यकता होती है।” ‐ फ्रैंक सिनात्रा
“People often remark that I’m pretty lucky. Luck is only important in so far as getting the chance to sell yourself at the right moment. After that, you’ve got to have talent and know how to use it.” ‐ Frank Sinatra

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment