कीर्तन रस-स्वरूप : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Kirtan Ras Svarup : Hindi PDF Book – Granth

कीर्तन रस-स्वरूप : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Kirtan Ras Svarup : Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कीर्तन रस-स्वरूप / Kirtan Ras Svarup
Author
Category, ,
Language
Pages 476
Quality Good
Size 97 MB
Download Status Available

कीर्तन रस-स्वरूप का संछिप्त विवरण : दादाजी के मुख से माँ ने सुना था | पश्चात्‌ अपने ख्याल से माँ वही हरिनाम लेती थी | लेते लेते वह कभी “हरी $” रूप से प्रकट होता था | माँ हरिनाम लेती थी-पह बात सुनकर अनेक लोग इसी हरिनाम का कीर्तन करते है | हम लोग भी अपने नित्य कीर्तन में यह नाम करते है | माँ ने अपने पित्रालय में बचपन में यह नाम सुना था…

Kirtan Ras Svarup PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dadaji ke mukh se maan ne suna tha. Pashchat apne khyal se maan vahi harinaam leti thi. Lete lete vah kabhi “hari om” rup se prakat hota tha. Maan harinaam leti thi-yah baat sunkar anek log isi harinaam ka kirtan karte hai. Ham log bhi apne nity kirtan mein yah naam karte hai. Maan ne apne pitralay mein bachpan mein yah naam suna tha…………
Short Description of Kirtan Ras Svarup PDF Book : Mother had heard from Grandpa’s mouth. After that the mother used to take the same name. Taking it, he would ever appear in the “green” form. Mother used to take hernamas – many people hear this talk of this Harinam. We also make this name in our daily kirtan. Mother had heard this name in her father’s childhood……………
“जीवन में मानव का मुख्य कार्य स्वयं का सृजन करना है, वह बनना जिसकी उसमें संभाव्यता है। उसके प्रयास का सबसे महत्त्वपूर्ण उत्पाद उसका स्वयं का व्यक्तित्व होता है।” ‐ एरिक फ्राम्म
“Man’s main task in life is to give birth to himself, to become what he potentially is. The most important product of his effort is his own personality.” ‐ Erich Fromm

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment